कोटखाई गैंगरेप: भाजपा ने की वीरभद्र सरकार को बर्खास्त करने की मांग

Subscribe to Oneindia Hindi

शिमला। कोटखाई में स्कूली छात्रा से गैंगरेप व मर्डर मामले व प्रदेश में दिनों-दिन बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर हिमाचल प्रदेश में विपक्षी दल भाजपा ने राजभवन में राज्यपाल आचार्य देवव्रत को ज्ञापन सौंपा। भाजपा विधायक विधानसभा में राष्ट्रपति प्रत्याशी के लिये मतदान करने के बाद सीधे राजभवन पहुंचे व वीरभद्र सरकार को बर्खास्त करने की मांग की।

Read Also: 16 साल बाद शिमला की मां को फेसबुक पर इटली में मिला खोया बेटा

कोटखाई केस: BJP ने की वीरभद्र सरकार को बर्खास्त करने की मांग

इस अवसर पर नेता प्रतिपक्ष प्रेमकुमार धूमल की अगुवाई में राज्यपाल को सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया कि राज्य में कानून व्यवस्था खराब होती जा रही है। शिमला जिले के कोटखाई में नाबालिग स्कूली छात्रा के रेप के बाद हत्या इसका ताजा उदाहरण है। उन्होंने कहा कि सरकार कानून व्यवस्था को बनाए रखने में पूरी तरह नाकाम रही है और यही कारण है कि एक के बाद एक ऐसी घटनाएं घट रही हैं। धूमल ने कोटखाई मामले का जिक्र करने के साथ ही मंडी के करसोग में वन रक्षक होशियार सिंह के मामले का जिक्र किया और परवाणु से भी एक नाबालिग के गायब होने की बात कही। उन्होंने कहा कि हिमाचल जैसे शांत प्रदेश में आज कोई भी सुरक्षित महसूस नहीं कर रहा और यहां पर कानून व्यवस्था पूरी तरह से लडख़ड़ा गई है और बीजेपी इसकी कड़ी निंदा करती है।

कोटखाई केस: BJP ने की वीरभद्र सरकार को बर्खास्त करने की मांग

धूमल ने कहा कि सरकार ने कोटखाई मामले की सीबीआई से जांच करवाने की बात तो कही है, लेकिन पुलिस ने मामले को उलझा दिया है और भाजपा इसकी कड़ी निंदा करती है। उन्होंने राज्यपाल से मांग की राज्य की कांग्रेस सरकार को बर्खास्त किया जाए और राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाकर, नए सिरे से विधानसभा चुनाव करवाए जाएं। कहा कि सीबीआई की स्पेशल टीम को मर्डर मामले की जांच करनी चाहिए। धूमल ने कहा कि वे चाहते हैं कि इस मामले को दबाने का जो भी लोग प्रयास कर रहे हैं, उसकी भी जांच हो और साथ में उन लोगों को भी सब के सामने लाया जाए जो इस दबाव में आ रहे हैं। वे चाहते हैं कि स्कूली छात्रा को न्याय मिले। कोटखाई की स्कूली छात्रा ही नहीं प्रदेश में और भी कई ऐसे मामले हैं जिन में कानून व्यवस्था का मजाक उड़ाया गया है। उन सभी मामलों की जांच होनी चाहिए इनमें कुल्लू में बच्ची के रेप व उसकी हत्या साथ ही परवाणू से भी पिछले 14 अप्रैल से बच्ची की गायब होना शामिल है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था सही नहीं है। आने वाले चुनावों में यह भी मुद्दा रहेगा। कोटखाई प्रकरण में अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि असली दोषी कौन हैं कभी पुलिस किसे पकड़ कर लाती है तो कभी किसी को टेस्ट के बाद छोड़ देती है। इससे जाहिर है कि पुलिस तय नहीं कर पा रही है कि दोषी कौन है। कभी पुलिस पत्रकार वार्ता कर मामला सुलझाने का दावा करती है तो कभी पूछताछ के लिए बुलाती है। धूमल ने कहा कि इससे तो यही लगता है कि सरकार इस मामले को सुलझाने में जानबूझ कर देरी कर रही है। सीएम के फेसबुक आईडी पर फोटो अपलोड करने के मामले पर उन्होंने कहा कि यह जांच का विषय है कि फोटो कैसे अपलोड हुए। अगर उनका गुडिय़ा प्रकरण से कोई कनेक्शन नहीं तो फोटो किसने अपलोड किए। धूमल ने कहा कि प्रदेश में जो हालात बन रहे हैं उसे देख कर यही साबित होता है कि सरकार है ही नहीं। ऐसे में जल्द चुनाव हो और जनता अपनी पसंद की सरकार चुने।

Read Also: कोटखाई गैंगरेप-मर्डर के बाद बच्चों की सुरक्षा के लिए जागी हिमाचल सरकार

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Kotkhai gang rape, BJP demanded dismissal of Virbhadra govt.
Please Wait while comments are loading...