कोटखाई गैंगरेप: 'पुलिस की कहानी झूठी है, बेटी को नहीं मिला इंसाफ'

Subscribe to Oneindia Hindi

शिमला। हिमाचल प्रदेश में जिला शिमला के कोटखाई में स्कूली छात्रा से गैंगरेप व मर्डर के मामले में पीड़िता के परिवार ने पुलिस की ओर से इस मामले में की गई जांच व बनाई गई क्राइम थ्योरी को सिरे से खारिज करते हुये कहा कि पुलिस ने जो कहानी गढ़ी है, वह गलत है। पीड़िता का परिवार यह मानने को कतई तैयार नहीं है कि मामले में गोरखा नेपाली व गढ़वाल के रहने वाले लोग शामिल हैं। उनका दावा है कि असल आरोपियों को बचाने के लिये ही झूठी कहानी बताई जा रही है लेकिन वह लोग चुप नहीं बैठेंगे।

KOTKHAI GANG RAPE के LATEST UPDATES:

कोटखाई कांड पर लोगों में जबरदस्त गुस्सा, फेसबुक पर पूछे गए ऐसे-ऐसे सवाल?

कोटखाई गैंगरेप: पुलिस की कहानी पर लोगों को नहीं हो रहा भरोसा

'पुलिस ने मामले को दबाया है'

'पुलिस ने मामले को दबाया है'

पीड़िता के पिता ने ने कहा है- मेरी बेटी को इंसाफ नहीं मिला है। मामले को दबाया गया है। जो आरोपी पकड़े गए हैं, उनकी संलिप्तता पर हमें संदेह है। हम जांच से संतुष्ट नहीं हैं। इस मामले में प्रदेश सरकार की कोई भी एजेंसी जांच न करे। अब हम इस केस की सीबीआई जांच की मांग करेंगे। पीड़िता के पिता का कहना है हम अपनी बेटी को इंसाफ दिलवाने के लिए मरते दम तक लड़ाई लड़ेंगे। वहीं मृतका की माता ने कहा कि मैंने अपने कलेजे का टुकड़ा खोया है।

केस की सीबीआई से जांच कराने की मांग

केस की सीबीआई से जांच कराने की मांग

उन्होंने भी कहा कि पुलिस की जांच निष्पक्ष नहीं है औऱ हम शांत बैठने वाले नहीं हैं। हम कोर्ट में भी लड़ाई लड़ेंगे। मां का कहना है कि जैसे मेरी बेटी को मारा है, उसी तरह असली आरोपियों को मारा जाना चाहिए। इस बीच मृतक छात्रा के जीजा ने कहा, पुलिस ने इस मामले को दबाया है। अब लड़ाई सीबीआई से इस केस की जांच करवाने के लिए लड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि असली आरोपी पैसे वाले और रसूखदार हैं इसलिए पुलिस और राजनीतिज्ञ इस मामले में उन्हें बचा रहे हैं। उन्होंने कहा कि नेपाल और गढ़वाल मूल के व्यक्ति इतने होशियार नहीं हो सकते कि घटना के बाद भी गांव में डेरा जमाए रखे।

कोटखाई गैंगरेप मर्डर केस कब क्या हुआ?

कोटखाई गैंगरेप मर्डर केस कब क्या हुआ?

4 जुलाई- लापता हुई छात्रा

6 जुलाई- लाश जंगल में हुई बरामद

7 जुलाई- पुलिस ने जांच शुरू की

9 जुलाई -पूरे जिला शिमला में घटना के विरोध में धरने प्रर्दशन शुरू

1 0 जुलाई- एसआईटी गठन जिसके चीफ बने जहूर जैदी

11 जुलाई- चार आरोपी शक के आधार पर पकड़े गये

12 जुलाई- एक मुख्य आरोपी आशीष की गिरफतारी

13 जुलाई- पुलिस का मामला सुलझाने का दावा

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Kotkhai: Family of schoolgirl said story of police is false.
Please Wait while comments are loading...