16 साल बाद शिमला की मां को फेसबुक पर इटली में मिला खोया बेटा

Subscribe to Oneindia Hindi

शिमला। करीब अठारह साल पहले हिमाचल प्रदेश के शिमला से इटली गया हरप्रीत वहां संदिग्ध परिस्थितयों में लापता हो गया था। अब लंबे अरसे बाद अपनी मां से मिल सकेगा। मां-बेटे के इस मिलन में फेसबुक अहम रोल अदा कर रही है। जिस मां ने अपने बेटे के मिलने तक की उम्मीद छोड़ दी थी, वही मां फेसबुक को अपने बेटे को मिलाने में धन्यवाद दे रही है। उसे 16 साल के लंबे इंतजार के बाद अपने बेटे के जिंदा होने की खबर फेसबुक से मिली तो उसकी मायूसी खत्म हो गई। यही मां प्रशासन से लेकर विदेश मंत्रालय तक चक्कर लगाती रही।

Read Also: कोटखाई गैंगरेप-मर्डर के बाद बच्चों की सुरक्षा के लिए जागी हिमाचल सरकार

16 साल बाद शिमला की मां को फेसबुक पर इटली में मिला खोया बेटा

लेकिन अब उसे फेसबुक के जरिए अपने गुम हुये बेटे हरप्रीत से संपर्क करने में सफलता मिल गई है। गौरतलब है कि 8 अगस्त 1999 को हरप्रीत काम ढूंढने के सिलसिले में अपने दोस्त विक्की के साथ इटली गया। वहां जाने के दो साल बाद वह संदिग्ध हालात में लापता हो गया। उसकी मां अपने बेटे को तलाशने के लिए हर दरवाजा खटखटा चुकी थी। फिर भी उसके बारे में जानकारी नहीं मिली।

पता चला है कि इस दौरान हरप्रीत जेल में बंद रहा। हलांकि यह जानकारी नहीं दी गई कि उसे किस जुर्म में सजा मिली। हरप्रीत अब रोम के एक स्कूल में टीचर है। उसने अपने परिवार से कई बार संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन हर बार नाकाम रहा। अब जाकर 16 साल बाद उसका परिवार से संपर्क हो पाया।

हरप्रीत की बहन गुरप्रीत की शादी पंजाब के जालंधर में हुई है। पिछले दिनों उसने फेसबुक पर अपने भाई का नाम सर्च किया तो उसी से मिलती-जुलती शक्ल वाली एक प्रोफोइल मिली। इसके बाद गुरप्रीत ने अपनी मां को उस प्रोफाइल की फोटो भेजी और पूछा कि क्या ये फोटो हरप्रीत से मिलती है? इसके बाद मां ने उसे पहचान लिया। बाद में गुरप्रीत ने वीडियो कॉलिंग के जरिये हरप्रीत से बात की तो धीरे-धीरे सारी कड़ियां जुड़ गईं। दोनों ने एक दूसरे के साथ अपने बचपन की बातें साझा की. फिर हरप्रीत ने अपनी मां से बात की। इसके बाद हरप्रीत ने इटली से वीडियो कॉलिंग के जरिये मां से बात की।

दरअसल 17 साल का हरप्रीत 8 अगस्त, 1999 को पैसे कमाने के लिए इटली गया। दो साल तक तो वहां सब ठीक चलता रहा। फोन पर बात भी होती थी। लेकिन एक दिन दो अचानक एक दिन हरप्रीत का फोन आया। वह रो रहा था। उसने कहा कि उसके दोस्तों ने उसे फंसा दिया है। वे उसे बुरी तरह से मार रहे हैं। इतना कहना ही था कि उसके दोस्तों ने उससे फोन छीन लिया। इसके बाद से हरप्रीत की कोई खोज खबर नहीं थी। हरप्रीत की मां जोगिन्दर कौर के मुताबिक हरप्रीत अपने दोस्त विक्की के साथ इटली गया था। वहां गुग्गी जस्पाल और उसके दो और दोस्तों से मिला। सब वहां साथ रहते और खेत में काम करते थे।

हरप्रीत ने अपने दोस्त गुग्गी को बहन की शादी के लिए पांच लाख उधार दिए। जब हरप्रीत ने पैसे वापस मांगे तो पैसे देने की बजाय गुग्गी और उसके दोस्तों ने उससे मारपीट की, जब हरप्रीत ने मां को फोन पर सब कुछ बताने की कोशिश की तो उसका फोन भी छीन लिया गया। 2012 में जोगिन्दर कौर ने शिमला के ढली थाना में एफआईआर करवाई गई। लेकिन कोई एक्शन नहीं लिया गया। अगस्त, 2016 में जोगिंदर ने विदेश मंत्रालय को पत्र लिखा, जवाब में उन्हें केवल इतना कहा गया कि जल्द कार्रवाई होगी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Facebook helped a mother from Shimla to meet his son after 16 years.
Please Wait while comments are loading...