जनता की शिकायतों पर नहीं दिया ध्यान, डीएम ने रोक दी अधिकारियों की सैलरी

जनता की शिकायतों को ना सुनना गाजियाबाद के कई अधिकारियों को भारी पड़ गया है। जिलाधिकारी ने 11 अधिकारियों का वेतन रोक दिया है।

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

गाजियाबाद। जनता की शिकायतों को गम्भीरता से ना लेना उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के अफसरों को भारी पड़ गया है। जिलाधिकारी निधि केसरवानी ने नगर निगम से जुड़े अलग-अलग विभाग एवं प्रशासन और राजस्व विभाग के 11 बड़े अधिकारियों का नवंबर माह का वेतन रोक दिया है।

salary

अपने बोल्ड फैसलों के लेकर गाजियाबाद के लोगों में मशहूर हो चुकीं डीएम निधि केसरवानी ने जनता की ओर से आई ऑनलाइन शिकायतों पर अधिकारियों के ढीले रवैये से नाराज होकर नगर आयुक्त समेत प्रमुख पदों पर बैठे 11 अधिकारियों वेतन रोक दिया है। डीएम के फैसले ने अधिकारियों में खलबली मचा दी है।

नोटबंदी: पूर्व डीएसपी ने तोड़ी बैंक की लाइन, गार्ड से भिड़े

नगर आयुक्त अब्दुल समद के खिलाफ डीएम ने पाया कि वो जनता की शिकायतों को कतई गंभीरता से नहीं लेते हैं। तहसील दिवस, जनता दर्शन जैसे मौकों पर लोग ऑनलाइन भी अपनी शिकायत दर्ज कराते हैं, जिस पर मुख्यमंत्री की भी निगाह रहती है।

जिलाधिकारी ने बताया है कि जिन अधिकारियों का वेतन रोका गया है, उनका वेतन तभी रिलीज किया जाएगा जब वो इस बात का प्रमाण देंगे कि सभी शिकायतों को उन्होंने सुना लियै है और कोई शिकायत लंबित नहीं है।

गाजियाबाद: पत्नी के सामने युवक ने रखी 10 अजीब शर्ते, बेडरूम में लगाना चाहता है CCTV

पहले भी चर्चाओं में रहे हीं डीएम निधि केसरवानी

निधि केसरवानी अपने अलग अंदाज में काम करने के लिए पहचान रखती हैं। फिल्मी अंदाज में फैसला लेना उनके काम करने के स्टाइल में शुमार है।

हाल ही में केसरवानी तब चर्चा में आईं थी, जब नोटबंदी के बाद परेशानी का सामना कर रहे गाजियाबाद के लोगों की समस्या का हल निकालने के लिए उन्होंने शासन को पत्र लिखा।

नोट बंदी के बाद से बैंकों में हुई नई करेंसी की किल्लत और लोगों के हंगामे के बाद डीएम ने इस मामले में शासन से हस्तक्षेप करने की सिफारिश की और ग्रामीण इलाकों तक नई करेंसी पहुंचे इसका इंतजाम करने की मांग की है।

सुहागरात में दूल्‍हे को सुलाकर नगदी-जेवर लेकर फरार हो गई लुटेरी दुल्‍हन

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Ghaziabad DM stops salary of 11 top officials
Please Wait while comments are loading...