नोटबंदी के चलते लाश को करना पड़ा कफन का इंतजार, अंतिम संस्‍कार में हुई देरी

एक बुजुर्ग की सुबह साढ़े सात बजे मौत हो गई लेकिन रुपए ना होने की वजह से अन्तिम संस्कार होने मे समस्या हुई।

Subscribe to Oneindia Hindi

गाजियाबाद। नोटबंदी की मार ने लोगो की कमर तोड़ कर रख दी है। गरीब लोग किस कदर परेशान हैं इसका एक ताजा मामला गाजियाबाद के न्यू आर्य नगर में सामने आया। एक बुजुर्ग की सुबह साढ़े सात बजे मौत हो गई लेकिन रुपए ना होने की वजह से अन्तिम संस्कार होने मे समस्या हुई। जब यह बात एक एनजीओ संचालिका संध्या त्यागी को पता चला तो वो अपने अन्य साथियो के साथ बैक ऑफ इंडिया नवयुवक मार्केट पहुंच गई और बैँक मैनेजर अजय कुमार जैन से मदद करने के लिए आग्रह किया।
पैसा निकालने गई ट्रांसजेंडर से बैंक स्‍टाफ ने की बदतमीजी, मैनेजर से नहीं दिया मिलने 

Demonetization takes ugly turn, late in last right in Ghaziabad

बैंक मैनेजर ने बताया कि उनके यहां शुक्रवार से नई करेंसी नही आई है। लेकिन जब मैनेजर ने कविनगर के एक व्यापारी नवीन गुप्ता से यह बात बताई तो वह तुरंत मदद के लिए तैयार हो गए। उन्होंने बैंक पहुंच कर दस हजार रुपये की मदद के साथ ही मैनेजर अजय कुमार जैन ने भी इंसानियत का परिचय देते हुए सात हजार रुपये की मदद की। तब जाकर लाश का अन्तिम संस्कार हिंडन घाट पर किया जा सका। मृतक का नाम मुन्ना लाल शर्मा है।
रेडलाइट एरिया में वेश्‍याओं ने दिया खुला ऑफर- मेरे साथ वक्त बिताओ, 1000-500 के नोट दे जाओ 

पहले भी सामने आए हैं ऐसे मामले

बीते 13 नवंबर को ऐसा ही एक मामला मेरठ में सामने आया था। यहां बैंक खुलने का इंतजार एक लाश कर रही थी ताकि बैंक खुलने के बाद उसे कैश मिले और कफन नसीब हो। मेरठ के लालकुर्ती की हंडिया मुहल्ला निवासी 70 वर्षीय बेला की मौत हो गई थी। परिवार दाह संस्कार के लिए पैसे जुटाता, इससे पहले उसे नई नोटों का भूत डराने लगा। लाश के दाह संस्कार के लिए भी कोई नगदी बदलने को तैयार नहीं था। आखिरकार सब्र टूटा तो मुहल्ले वालों ने बैंक में हंगामा कर दिया।

पहली किस्त के आठ हजार रुपए तत्काल मृतक के परिजनों के लिए भेजे गए। इसके बाद मुहल्ले के हाजी इकबाल ने पड़ोसी धर्म एवं मानवता का संदेश बुलंद करते हुए बैंक में पहुंचकर अपने पास से चार हजार रुपए का चेंज कराया। दाह संस्कार के लिए जुटाए गए 16 हजार रुपए से अंत्येष्टि की प्रक्रिया छह घंटे देरी से शुरू की जा सकी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Demonetization takes ugly turn, late in last right due to lake of cash in Ghaziabad, district of Uttar Pradesh.
Please Wait while comments are loading...