अलाउद्दीन खिलजी को पसंद थे बिना दाढ़ी वाले मर्द, 1000 दिनार देकर खरीदा था पार्टनर

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्‍ली। पिछले दिनों फिल्‍म निर्माता संजय लीला भंसाली की फिल्‍म 'रानी पद्मावती' को लेकर काफी बवाल हुआ। जयपुर में करनी सेना ने उस समय भंसाली और फिल्‍म के क्रू पर हमला कर दिया जब इस बात की खबर फैली के भंसाली एक पद्मावती और अलाउद्दीन खिलजी के बीच एक लव सीन शूट करने वाले हैं। लेकिन भंसाली शायद खिलजी के जिंदगी के एक सबसे रोचक तथ्‍य को नजर अंदाज कर गए।

खिलजी को थे बिना दाढ़ी वाले मर्द पसंद, खरीदता था पार्टनर

1000 दिनार देकर खरीदा था कफूर को

अलाउद्दीन खिलजी पुरुषों और खासकर बिना दाढ़ी वाले पुरुषों के लिए आकर्षित था। कई किताबों में इस बात का दावा किया गया है कि उसके हरम में करीब 50,000 पुरुष थे तो उसके साथी थे। खिलजी के इस लव इंट्रेस्‍ट का कहानी मलिक कफूर नामक व्‍यक्ति के बारे में सर्च करने पर भी पता चलती है। खिलजी ने गुजरात में जीत हासिल करने के बाद काफूर को एक हजार दिनार देकर खरीदा था। कफूर का नाम कहीं-कहीं पर 'कफूर हजार दिनारी' भी मिलता है। खिलजी और कफूर के संबंधों के बारे में तारीख-ए-फिरोजशाही समेत कई किताबों में लिखा गया है। कहते हैं कि खिलजी के हरम में जो 50,000 पुरुष थे वे सभी बिना दाढ़ी वाले थे। इतिहास में दावा है कि खिलजी, कफूर की खूबसूरती के आगे खुद को बेबस महसूस करता था और इसका पूरा फायदा कफूर ने उठाया था। कफूर ने खिलजी का गुलाम बनने के बाद इस्‍लाम कुबूल कर लिया था।

खिलजी की कमजोरी था कफूर

कफूर और खिलजी की करीबियां इतनी थी कि कफूर को खिलजी ने मिलिट्री कमांडर यानी मालिक नायब बना दिया था।कफूर ने देवगिरी में यादवों के साम्राज्‍य पर हमला करते समय सुल्‍तान की सेना का नेतृत्‍व किया था। इसके बाद सन् 1305 में कफूर न अमरोहा की लड़ाई में मंगोलों को हराया था। इसके बाद सन् 1309 और 1311 में मलिक कफूर ने दक्षिण भारत दो सफल अभियानों का नेतृत्‍व भी किया था। कहते हैं कि कफूर ने ही खिलजी की मौत की साजिश भी रची थी। पढ़ें-आखिर कौन था मुगल शासक तैमूरलंग

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Aladuddin Khilji facinated by men and had 50,000 male lovers. His love interest for Malik Kafur has been described in many books including the Tarikh-e-Firozshahi.
Please Wait while comments are loading...