हेल्थ के मामले में विश्व के 188 देशों में से 143 वें नंबर पर इंडिया

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्‍ली। हेल्थ को लेकर विश्व के देश कितने सजग हैं इस बारे में हाल ही में एक वैश्विक स्तर पर शोध हुआ। यह शोध 188 देशों पर किया गया जिसमें इंडिया को 143वां स्थान मिला है। यह शोध मेडिकल जर्नल लैंसेट में प्रकाशित किया गया है।

कोहली सेे प्रभावित टीम इंडिया के खिलाड़ी, मांग रहे हैं बिना मसाले वाली बिरयानी

इस बारे में संयुक्त राष्ट्र महासभा के एक विशेष समारोह में कहा गया कि तीव्र आर्थिक विकास के बावजूद भारत का नंबर कोमोरोस और घाना के नीचे है, इसलिए इस बारे में इस देश को सोचना चाहिए। इस लिस्ट में भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश से आगे है। मालूम हो कि पाकिस्तान की रैकिंग 149 और बांग्लादेश की 151 है।

डेंगू-चिकनगुनिया के बाद अब 'मायरो' वायरस ने उड़ाई डॉक्टरों की नींद

गौरतलब है कि इस शोध में कहा गया है कि इंडिया के लोग बहुत ज्यादा स्वच्छता और प्रदूषण को लेकर सजग नहीं हैं इस कारण उसकी रैंकिंग इतनी खराब है। उसे इस मामले में भूटान, बोत्सवाना, सीरिया और श्रीलंका से आगे होना चाहिए लेकिन अफसोस वो इनसबसे पीछे है।

इस तरह से रखें 'हार्ट' का ख्याल..क्योंकि दिल के पास दिमाग नहीं होता...

कहां पिछड़ा भारत?

  • मलेरिया के मामले में श्रीलंका, इराक, सीरिया, लीबिया पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं लेकिन इंडिया अभी भी इस रोग की चपेट में हैं।
  • मिलेनियम डेवलपमेंट गोल में भारत को 100 में 39 अंक मिले हैं।
  • स्‍वच्छता के स्वास्थ्य मूल्यांकन में भारत को सिर्फ आठ प्वॉइंट मिले हैं।
  • पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों की मृत्युदर के लिए 39 प्वॉइंट्स मिले हैं।
  • गर्भ के दौरान होने वाली मृत्युदर में इंडिया का मात्र 28 प्वॉइंट्स मिले हैं।
  • जानिए विवाहित महिलाओं के लिए मंगल-सूत्र क्यों है जरूरी?

गौरतलब है कि हेल्थ समस्याओं से निपटने के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा एसडीजी के 2015 में गाइडलाइंस तैयार की थी, इसलिए ये शोध किया गया कि कितने देश उस गाइडलाइंस को मान रहे हैं। जिसमें इंडिया को काफी सुधार की जरूरत है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
A global study on a range of health indicators released on Thursday has ranked India 143rdamong 188 countries, citing various challenges, including mortality rates, malaria, hygiene and air pollution
Please Wait while comments are loading...