दिल्‍लीवालों, पाक कलाकारों पर बैन लेकिन पाकिस्‍तानी चीजों पर क्‍यों नहीं?

पाक कलाकारों को तो बैन करने की बात की जा रही है लेकिन उन पाकिस्तानी चीजों पर प्रतिबंध क्यों नहीं लग रहा जो दिल्ली के बाजारों में खुले आम बेचे और खरीदे जा रहे हैं...

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। उरी आतंकी हमले के बाद इस समय कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक पाकिस्तान को लेकर लोग उबल रहे हैं।

Birthday Special: ओमपुरी...पर्दे का नायक असल में क्यों बन गया खलनायक?

मनसे ने तो पाकिस्तानी कलाकारों को यहां से तुरंत चले जाने का फरमान सुना दिया जिसके बाद पाकिस्तानी एक्टर फवाद खान इंडिया छोड़कर चले गए। लोग करण जौहर के निर्देशन में बनी फिल्म ' ए दिल है मुश्किल' को रिलीज में अड़ंगा लगा रहे हैं।

करवाचौथ 2016: कहां-कहां कितने बजे दिखेगा चांद?

लेकिन दिलवालों की दिल्ली में धड़ल्ले से पाकिस्तानी चीजों का सामान बेचा जा रहा है, जिसे बेचने के वक्त ना तो दुकानदारों को पाकिस्तानी की हरकत याद आ रही है और ना ही खरीदते वक्त ग्राहकों को उरी आतंकी हमला याद आ रहा है। बस बेचने के वक्त दुकानदारों को पैसा और ग्राहकों को अपना शौक और जरूरत दिख रही है।

बहू आकांक्षा ने लगाए संगीन आरोप तो तिलमिला उठीं युवी की मां शबनम सिंह

आईये तस्वीरों के जरिए जानते हैं क्या है वो पाक चीजें जो बिक रही हैं दिल्ली के बाजारों में..

जामिला मेंहदी (पाकिस्तनी डिजाइन)

पाकिस्तान की जामिला मेंहदी, दिल्ली वासियों की पहली पसंद हैं क्योंकि इसकी रंगत काफी दिनों तक उतरती नहीं है। दिल्ली की लड़कियां और औरतें इस मेंहदी को अपनी हथेली में सजाना चाहती हैं वो भी पाकिस्तानी और अफगानी डिजाइन के साथ।

सूरमा

हाथों को सजाने के बाद दिल्लीवासी पाकिस्तानी सूरमा को भी बहुतायत में खरीदते हैं। उनका कहना है कि जो सूरमा पाकिस्तान से आता है उसे लगाने के बाद हर आंखें खूबसूरत हो जाती हैं।

पाकिस्तानी लॉल फ्रेब्रिक

इस कॉटन की मांग इतनी ज्यादा है दिल्ली के बाजारों में कि दुकानदार इसे अपने हिसाब से महंगे दामों में बेचते हैं। उन्हें इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि ये कपड़ा कहां से आ रहा है और यही बात यहां के ग्राहकों पर भी लागू होती है।

पाकिस्तानी स्पाइसी फूड(shan)

सजने-संवरने के सामान के अलावा पाकिस्तानी स्पाइसी फूड(shan) के लिए भी दिल्ली वाले क्रेजी हैं। यही हाल उनका पाकिस्तानी चौसा आम के लिए भी है। लोग इनहें बहुतायत में खरीदते हैं और खाते हैं।

पालिका बाजार डीवीडी-सीडी

फवाद खान के कारण करण जौहर की फिल्म अटक गई है लेकिन दिल्ली के हार्ट मार्केट पालिका बाजार में पाकिस्तानी कलाकारों की डीवीडी और गजलों की दुकानें भरी पड़ी हैं, जहां लोग अपने हिसाब और शौक से धड़ल्ले से चीजों खरीद रहे हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Today, when sports and art from Pakistan struggle to find its way through the MNS-led turmoil in India, here we are with six Pakistani things you can still enjoy doing if you are in the national capital.
Please Wait while comments are loading...