पल भर में सामने नजर आई मौत, पढ़िए चाइनीज मांझे के शिकार शख्स की आपबीती

Subscribe to Oneindia Hindi

दिल्ली 15 अगस्त को दिन के उजाले में आजादी का जश्न मनाते हुए पूरी दिल्ली पतंगबाजी में मशगूल थी, वहीं पतंग उड़ाने में इस्तेमाल हुए चाइनीज मांझे ने उस दिन दो परिवारों को जिंदगीभर के लिए मातमी अंधेरे में धकेल दिया। दो परिवारों के चिराग इस चाइनीज मांझे ने बुझा दिए।

दो मासूम बच्चे जो मां-बाप के साथ कार में आजादी के दिन घूमने निकले थे, अचानक इस मांझे में उलझकर अपनी जिंदगी खो बैठे। उसी दिन बाइक से जा रहे 22 साल के युवक की गर्दन को इस किलर मांझे ने काट दिया और उसकी भी मौत हो गई।

आए दिन दिल्ली में ऐसी खौफनाक घटनाएं होती हैं। दिल्ली सरकार ने भले इस किलर मांझे पर बैन लगाया हो लेकिन फिर भी लोग चाइनीज मांझे का इस्तेमाल करने से बाज नहीं आ रहे।

दिल्ली के गाजीपुर फ्लाईओवर पर शुक्रवार को बाइक से जा रहे तोयज सिंह की गर्दन चाइनीज मांझे में उलझ गई और उनकी गर्दन कटते कटते कैसे बची, यह आपबीती उन्होंने सुनाई।

पढ़िए उन्हीं की जुबानी, किलर चाइनीज मांझे के जानलेवा धार की यह खौफनाक हकीकत, जो तस्वीरों के साथ उन्होंने अपने फेसबुक वाल पर भी शेयर की।

READ ALSO: दिल्ली: हत्यारे चाइनीज मांझे पर बैन में देरी के लिए कौन है जिम्मेदार?

killer manja

गाजीपुर फ्लाइओवर पर गर्दन में उलझा चाइनीज मांझा

मैं गाजीपुर फ्लाईओवर पर बाइक से जा रहा था। बाइक स्पीड में थी और मेरे आगे-पीछे अगल-बगल तेज रफ्तार में भागती गाड़ियां थीं। मैं हेल्मेट पहने हुए था। अचानक मुझे लगा कि हेल्मेट में कुछ फंस गया। लेकिन उस समय मैं अगर ब्रेक मारता तो आगे पीछे की भागती गाड़ियों की वजह से सड़क हादसे का शिकार हो सकता था। यही सोचकर मैंने बाइक नहीं रोकी। लेकिन फिर अचानक मुझे लगा कि मेरी गर्दन को सामने से किसी चीज ने काट दिया है।

chinese manjha1

जब तक ब्रेक लगाया, गर्दन को जख्म दे चुका था मांझा

उसके बाद मैंने किसी तरह से ब्रेक लगाते हुए सड़क के किनारे गाड़ी रोकी लेकिन तब तक मेरी गर्दन पर एक और जगह कट गया था। मैंने देखा कि चाइनीज मांझा मेरे हेल्मेट और गर्दन में उलझा है। यह मेरे लिए काफी खौफनाक अनुभव था। मेरी जान जा सकती थी लेकिन मैं मरते मरते बच गया।

chinese manjha2

हेल्मेट ने बचा ली मेरी जान

मैं अपनी जान बचने के लिए हेल्मेट का शुक्रुगुजार हूं। अगर हेल्मेट मेरे सर पर न होता तो चाइनीज मांझा मेरी गर्दन में घुस जाता और इसे बुरी तरह से काट सकता था। आप तस्वीर में देख सकते हैं कि इस मांझे की धार कितनी तेज है, इसने मेरे हेल्मेट की मोटी पट्टी को काट दिया तो फिर मेरे गर्दन का क्या हाल करता, सोचिए। आज मैं हेल्मेट की वजह से बच गया वरना कुछ भी हो सकता था।

chinese manjha

कटने के बाद गर्दन में बुरी तरह हुई जलन

चाइनीज मांझे से जब मेरी गर्दन सामने से और बगल से कटी तो उसके बाद जख्म में अचानक तेज जलन शुरू हुआ। अमूमन किसी धारदार चीज से कटने के बाद ऐसा नहीं होता लेकिन चाइनीज मांझे से कटने के बाद देर तक मैं इस जलन से परेशान रहा। अब धीरे धीरे इस जख्म से उबर रहा हूं लेकिन यह हादसा मैं कभी भूल नहीं पाऊंगा।

 

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
I was on Gazipur flyover with my bike on high speed when I felt that something is around my neck and that was killed Chinese Manja. Read my horrific experience.
Please Wait while comments are loading...