नोटबंदी: यौन शोषण की पीड़ितों को नहीं मिल पा रही मुआवजे की रकम

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। नोटबंदी के कारण आम जनता के बीच तो उपापोह की स्थिति है ही, पीड़ितो को इंसाफ मिलने में भी इससे दिक्कत हो रही है। दिल्ली हाइकोर्ट को मिली एक जानकारी के अनुसार, 8 नवंबर के बाद पीड़ितो को मुआवजा नहीं मिल पा रहा है।

girl

दिल्ली राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण दिल्ली हाईकोर्ट को बताया है कि नोटबंदी के बाद यौन उत्पीड़न, तेजाब हमले की पीड़ित और अन्य कई तरह के अपराधों में पीड़ितों तक मुआवजा नहीं पहुंच पा रहा है।

प्राधिकरण की ओर से सचिव धर्मेश शर्मा ने जस्टिस बदर दुर्रेज अहमद और जस्टिस आशुतोष कुमार की बेंच को बताया है कि मुआवजे के 68 मामले 8 नवंबर के नोटबंदी के ऐलान के बाद लटके हुए हैं।

कोई सर्जरी तो कोई मेटरनिटी लीव छोड़कर कर रहा है बैंक की ड्यूटी, फिर भी गुस्से के शिकार

कोर्ट ने मुआवजों में देरी पर जताई नाराजगी

शर्मा ने बताया कि बैंकों ने मुआवजे के संबधित लेनदेन के मामलों को पीछे कर दिया है क्योंकि बैंकों पर इन दिनों नोटबंदी के चलते काम का दबाव है। ऐसे में पीड़ितो को राशि नहीं मिल पाई है।

प्रधिकरण की ओर से ये जानकारी महिला सुरक्षा से संबंधित एक याचिका की सुनवाई के दौरान दी गई। प्रधिकरण की बाात को सुनने के बाद कोर्ट ने इस पर नाराजगी जताई है।

होटल में चल रहा था सेक्स रैकेट, ग्राहकों के लिए कमरे में बंद थीं पांच लड़कियां

कोर्ट ने दिल्ली राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण को कहा कि पीड़ितो के मुआवजे में देरी को बिल्कुल स्वीकार नहीं किया जा सकता है। कोर्ट ने प्रधिकरण को 24 घंटे के अंदर मुआवजे की रकम पीड़ितों को दिलाने का आदेश दिया है।

आपको बता दें कि 8 नंवबर को पीएम मोदी के नोटबंदी के ऐलान के बाद बैंकों पर काम का भार बहुत ज्यादा है। ऐसे में बैंकों में सामान्य रूप से कामकाज नहीं हो पा रहा है। बैंकों के सामने पुराने नोट बदलने के लिए लंबी-लंबी लाइने हैं। बैंककर्मी काम के भारी दबाव का सामना कर रहे हैं।

नोटबंदी: आज राज्यसभा की कार्यवाही में हिस्सा लेंगे पीएम नरेंद्र मोदी!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
nateban effect Sexual assault victims not getting money
Please Wait while comments are loading...