रेप से पैदा हुआ बच्चा अलग से मुआवजे का हकदार: हाई कोर्ट

कोर्ट ने सरकार से कहा है कि कानून में रेप पीड़िता के बच्चे के लिए भी मुआवजे के प्रावधान को शामिल करे।

Subscribe to Oneindia Hindi

दिल्ली। हाई कोर्ट ने रेप पीड़िता के बच्चे के हक में एक अहम फैसला सुनाते हुए उसे भी मुआवजे का अधिकारी बताया है। कोर्ट ने कहा कि यह मुआवजा पीड़िता को मिलने वाले मुआवजे से अलग बच्चे को मिलना चाहिए।

Read Also: हाई कोर्ट ने तीन तलाक को असंवैधानिक करार दिया

law for child of rape victim

दिल्ली हाई कोर्ट की बेंच ने दिया फैसला

दिल्ली हाई कोर्ट में जस्टिस गीता मिलाल और जस्टिस आर के गाबा की बेंच ने फैसला सुनाते हुए कहा कि रेप से कोई बच्चा पैदा होता है तो वह भी मुआवजे का हकदार है। यह मुआवजा, मां को मिलने वाले मुआवजे से अलग होगा।

यह फैसला देते हुए कोर्ट ने नाबालिग बेटी से रेप के आरोपी की उस याचिका को खारिज कर दिया जिसमें उसने लोअर कोर्ट से मिले उम्रकैद की सजा को चुनौती दी थी।

'बच्चे के लिए मुआवजे का प्रावधान क्यों नहीं है'

हाई कोर्ट ने इस पर सवाल भी उठाया कि कानून में रेप पीड़िता के बच्चे के लिए मुआवजे का प्रावधान क्यों नहीं है? कोर्ट ने कहा कि बच्चा भी अपराध का पीड़ित है इसलिए मां की तरह वह भी मुआवजे का हकदार है।

कोर्ट ने सरकार से कहा है कि कानून में बदलाव कर बच्चे के मुआवजे के प्रावधान को उसमें शामिल किया जाए।

पिता को मिली थी लोअर कोर्ट से उम्रकैद की सजा

पीड़िता ने 2014 में एक बच्चे को जन्म दिया था और बयान दिया था कि पिता ने उसके साथ रेप किया। पिता को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था और डीएनए टेस्ट से साबित हो गया था कि बच्चा उसी का था। इसके बाद लोअर कोर्ट ने 2015 में दोषी पिता को उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

Read Also: हाईकोर्ट का अहम फैसला, शादीशुदा औरत का गैर मर्द के साथ लिव इन रिलेशनशिप अवैध

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Delhi High Court ruled that child born out of rape is entitled to compensation, this relief is to be independent of any such relief granted to mother.
Please Wait while comments are loading...