12 लाख रुपए एक्सचेंज नहीं करवा पाने की वजह से बिजनेसमैन ने की खुदकुशी!

पत्नी ने बताया है कि डिमोनेटाइजेशन के बाद वीरेंद्र डिप्रेशन में थे। पुलिस इस खुदकुशी की जांच कर रही है।

Subscribe to Oneindia Hindi

दिल्लीनेब सराय के इलाके में एक 26 साल के बिजनेसमैन वीरेंद्र कुमार बासोया ने गुरुवार को घर में फांसी लगा ली। उनकी पत्नी का कहना है कि वीरेंद्र के पास 12 लाख के बैन किए गए 500 और 1000 के नोट थे, जिसको एक्सचेंज न करवा पाने की वजह से वे डिप्रेशन में थे।

Read Also: नोटबंदी से परेशान महिला ने लगाई फांसी, खर्चे के लिए नहीं थे पैसे

suicide

नोट एक्सचेंज न करवा पाने की वजह से सुसाइड!

अपने घर में वीरेंद्र ने पंखे में दुपट्टे की मदद से फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। पत्नी रौनक ने उनके शव को पंखे से लटकते देखा तो पुलिस और पड़ोसियों को इस बारे में सूचना दी।

पत्नी ने पुलिस को बताया है कि वीरेंद्र 12 लाख रूपया का कैश एक्सचेंज करवाने के लिए बहुत परेशान हुए। उन्होंने कई लोगों से मदद मांगी।

एक आदमी ने वीरेंद्र से कहा कि वह एक्सचेंज कर देगा लेकिन 4 लाख रुपए कमीशन के तौर पर मांगा। साथ ही कैश एक्सचेंज करने के लिए 15-20 दिन का समय भी मांगा। इस पर वीरेंद्र काफी अपसेट हुए और वे डिप्रेशन में चले गए थे।

इसी महीने अपने मकान में शिफ्ट करनेवाले थे वीरेंद्र

वीरेंद्र इसी महीने अपने निजी मकान में शिफ्ट होने वाले थे लेकिन डिमोनेटाइजेशन के बाद उनको अपना प्लान बदलना पड़ा।

इस बारे में वीरेद्र के मकान मालिक ने बताया कि वीरेंद्र ने अपना घर लिया है जिसका बकाया पैसा वह कैश में देने वाले थे। मकान मालिक ने बताया, 'वीरेंद्र ने बताया था कि वह इस महीने मकान खाली कर देंगे लेकिन करेंसी बैन की सूचना मिलने के बाद उन्होंने कहा था कि वह एक महीने और रहेंगे।'

गर्भवती पत्नी की दवाई खरीदने के लिए नहीं थे पैसे

पत्नी रौनक ने बताया कि वह गर्भवती हैं और दवाई खरीदने के लिए पैसे नहीं हैं। उसने बताया, 'कैश प्रॉब्लम की वजह से मेरे और वीरेंद्र के बीच पिछले कुछ दिनों से झगड़ा भी चल रहा था। मैंने पड़ोसी से 500 रुपए उधार लिए और 1000 रुपए को एक्सचेंज करवाया लेकिन उतने पैसे काफी नहीं थे।'

11 नवंबर को मनाई थी पहली मैरिज एनिवर्सरी

नोटबैन के बाद 11 नवंबर को वीरेंद्र और रौनक ने पहली मैरिज एनिवर्सरी मनाई लेकिन कैश नहीं होने की वजह से वह कोई पार्टी नहीं कर पाए।

रौनक ने कहा कि उनकी मैरिज लाइफ काफी खुशहाल चल रही थी लेकिन कैश प्रॉब्लम की वजह से क्या से क्या हो गया?

पुलिस ने सुनाई एक अलग ही कहानी

पुलिस ने दावा किया है कि वीरेंद्र की दो बीवियां थीं और वह लोगों को ब्याज पर कर्ज भी देते थे। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है कि किन वजहों से वीरेंद्र खुदकुशी करने पर मजबूर हुए?

मौके पर से पुलिस को कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। पुलिस का कहना है कि अभी तक की जांच से यह साबित नहीं हो पाया है कि डिमोनेटाइजेशन की वजह से वीरेंद्र दुखी थे।

पुलिस ने बताया है कि पिछले कुछ महीने से वीरेंद्र आर्थिक कठिनाई के दौर से गुजर रहे थे, हो सकता है कि इस वजह से उनको डिप्रेशन हुआ हो। पारिवारिक समस्याओं से भी वीरेंद्र जूझ रहे थे।

Read Also: एटीएम से खाली हाथ लौटी महिला, घर आकर दसवीं मंजिल से कूदी!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
A businessman allegedly did suicide after he failed to exchange money after demonetisation.
Please Wait while comments are loading...