केजरीवाल ने अपने 'दुश्मन' को किया रीट्वीट

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कुछ ना कुछ ऐसा जरूर करते रहते हैं, जिससे वो चर्चा में आ जाते हैं।

हालांकि इस बार ना तो उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला है, ना नोटबंदी के दौरान हुई मौतों का जिम्मेदार किसी व्यक्ति विशेष को ठहराया है, बल्कि इस बार केजरीवाल ने दोस्त से दुश्मन बने प्रशांत भूषण का ट्वीट, रिट्वीट किया है।

arvind-kejriwal-prashant-bhusan

जानिए, आखिर क्यों चर्चा में है दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल का ड्राइवर?

दरअसल, शुक्रवार (9 दिसंबर) को आम आदमी पार्टी के पूर्व सदस्य और सर्वोच्च न्यायालय के वकील, प्रशांत भूषण ने गुजरात कैडेर के आईपीएस अधिकरी राकेश अस्थाना को केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) का कार्यवाहक निदेशक बनाए जाने के संबंध में ट्वीट किया था।

प्रशांत ने लिखा था...

अपने ट्वीट में वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत ने लिखा है कि 'सर्वोच्च न्यायालय ने सरकार से पूछा है कि 'कैसे आपने बिना केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) और 2 G और कोलगेट मामलों में बिना न्यायालय की अनुमति के CBI के स्पेशल डायरेक्टर दत्ता को समय पूरा होने से पहले सीबीआई के बाहर कर दिया?'

केजरीवाल ने कहा- पंजाब में चुनाव जीते तो दलित को बनाएंगे डिप्टी सीएम

केजरीवाल ने इसी ट्वीट को रिट्वीट किया है। जाहिर है कि इससे यह स्पष्ट होता है कि केजरीवाल अब प्रशांत से अपनी प्रतिद्वंदिता को भूल जाना चाहते हैं।

गौरतलब है कि प्रशांत और केजरीवाल के बीच कड़वाहट इतनी ज्यादा हो गई थी, 'आप' के सह-संस्थापक प्रशांत ने पार्टी छोड़ दी थी।

तब प्रशांत ने दिया था जवाब...

इसके कुछ दिनों बाद ही प्रशांत पूर्व आप नेता योगेन्द्र यादव के साथ स्वराज अभियान में शामिल हो गए थे।

वक्फ बोर्ड भर्ती घोटाला: आप विधायक अमानतुल्लाह खान के खिलाफ सीबीआई ने किया केस दर्ज

बता दें कि इसी साल जुलाई में एक टीवी चैनल को दिए साक्षात्कार में केजरीवाल ने कहा था कि यह अच्छा होगा कि प्रशांत और योगेन्द्र पार्टी में आना चाहते हैं, तो आ जाए

हालांकि इसके जवाब में प्रशांत ने कहा था कि अपने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में हमें अपने MLA लोगों से गाली दिलाने और हम पर हमला करने के बाद केजरीवाल हमें वापस चाहते हैं!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Arvind Kejriwal retweets friend turned rival Prashant Bhushan
Please Wait while comments are loading...