स्टूडेंट सुशांत रोहिल्ला सुसाइड :SC ने लिया यह एक्शन, दोस्त ने यूनिवर्सिटी पर लगाया गंभीर आरोप

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। एमिटी यूनिवर्सिटी के लॉ थर्ड इयर स्टूडेंट सुशांत रोहिल्ला की खुदकशी मामले में सुप्रीम कोर्ट ने वरिष्ठ वकील फली एस. नरीमन को एमिकस क्यूरी नियुक्त किया है। 

स्टूडेंट सुशांत रोहिल्ला सुसाइड :SC ने लिया यह एक्शन, दोस्त ने यूनिवर्सिटी पर लगाया गंभीर आरोप

इस मामले में सुशांत ने कथित तौर पर अटेंडेंस कम होने की वजह से परीक्षा नहीं दे पाई थी और इस कारण उसने सुसाइड कर लिया था। इस मामले की गंभीरता को समझते हुए सुप्रीम कोर्ट ने खुद ही इसका संज्ञान लिया था।

इस मामले में सुशांत के ही सहपाठी राघव शर्मा ने सुशांत के लिए गुहार लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस टीएस ठाकुर को एक पत्र लिखा था। इसे ही पीआईएल मानकर मामले की सुनवाई शुरू हुई।

वीरेंद्र सहवाग ने बताया क्रिस गेल का निकनेम तो वहीं गेल ने रोहित शर्मा से कर डाली यह डिमांड

इस पत्र में राघव ने लिखा कि उसके दोस्त सुशांत ने एमिटी के फाउंडर और प्रेसिडेंट डॉ. अशोक चौहान से उसे एग्जाम देने की गुजारिश की थी। उसने मेल के जरिए लिखा था कि उसे एग्जाम देने दिया जाए वर्ना उसका एक साल और उसकी जिंदगी बर्बाद हो जाएगी।

मैं मानसिक रूप से कमजोर हो रहा हूं। शर्मा के मुताबिक, उस मेल को नजरअंदाज न किया होता तो आज उसका दोस्त जीवित होता।

Letter to the Chief Justice by NDTV on Scribd

रिलायंस जियो 4जी : आज से पूरी तरह भारत में सेवाएं शुरू कर देगी रिलायंस

'दोबारा न हों ऐसी घटनाएं'

कोर्ट ने सोमवार को फली एस. नरीमन को एमिकस क्यूरी बनाने के साथ ही कहा कि यह तय हो कि ऐसी घटनाएं भविष्य में दोबारा सामने न आएं। इस मामले में सुशांत के दो प्रोफेसरों ने इस्तीफा भी दिया है।

यह कहना है यूनिवर्सिटी का :

हालांकि, यूनिवर्सिटी की जांच में पाया गया कि नियमों के मुताबिक ही एक्शन लिया गया और कुछ मीडिया रिपोर्ट भी कहती हैं कि सुशांत की कम अटेंडेंस के बारे में उसके परिजनों को चेतावनी दी गई थी, जबकि परिजन इस बात से इनकार कर रहे हैं।

यह था पूरा मामला :

दिल्ली निवासी 20 वर्षीय सुशांत बीमार होने की वजह से कॉलेज नहीं जा पाया था और इस वजह से उसकी अटेंडेंस कम रह गई थी। मीडिया में आईं खबरें बताती हैं कि एमिटी यूनिवर्सिटी ने सुशांत को कथित तौर पर एग्जाम नहीं देने दिया था क्योंकि उसकी अटेंडेंस कम थी।

सुशांत के सुसाइड मामले की जांच के लिए उसके साथियों ने कैंडल मार्च निकालकर विरोध प्रदर्शन भी किया था। उन्होंने सोशल मीडिया पर भी सुशांत का साथ देने का आह्वान किया था।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
amity university law school student suicide case sc intervenes.
Please Wait while comments are loading...