पन्नीरसेल्वम: नगरपालिका अध्यक्ष से CM तक की कुर्सी का सफर, ये हैं उनकी खास बातें

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता की रहस्यमयी बीमारी के बाद उनके सभी विभाग सरकार में वित्त मंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम को दे दिए गए हैं।

tamilnadu

अब तक प्रशासनिक सुधार और वित्त मंत्रालय का कार्यभार देख रहे पन्नीरसेल्वम अब कैबिनेट की बैठकों में भी अगुवाई करेंगे। आईए आपको बताते हैं कि पन्नीरसेल्वम की खास बातें क्या-क्या है?

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद आया यूपी का ओपिनियन पोल, बीजेपी को फायदा

ये था पन्नीरसेल्वम का सपना...

राज्य के थेनी जिला स्थित पेरियाकुलम के मध्यवर्गीय परिवार से उठ कर राजनीति के इस स्तर पर पहुंचे हैं।

पाक के अखबार ने सरकार, सेना से पूछा- क्यों हाफिज और अजहर के खिलाफ नहीं कर रहे हैं कार्रवाई?

एमजीआर और उनकी पार्टी का मजबूत समर्थक रहे पन्नीरसेल्वम का सपना था कि वो पेरियाकुलम नगरपालिका के अध्यक्ष बन जाएं। 1996 में अध्यक्ष बनने के बाद वो धीरे-धीरे सब कुछ हासिल करते गए।

यह उनके लिए भगवान या अम्मा का तोहफा था।

पन्नीरसेल्वम की यह बात जयललिता को है पसंद

जयललिता ने पन्नीरसेल्वम में जो अब तक खास बात ध्यान दी है वो है उनका धैर्य है। इतना ही नहीं पार्टी में वरिष्ठ नेता भी इस बात को मानते हैं कि पन्नीरसेल्वम कभी किसी पद के लिए उग्र नहीं हुए।

चीन तैयार कर रहा बेबी रिएक्टर, विवादित SCS में करेगा स्थापित

जब एआईडीएमके के नेताओं ने 1996 में जयललिता की पहली सरकार के बाद डीएमके ज्वाइन किया तो पन्नीरसेल्वम उन कुछ लोगों में से थे जो जयललिता के पीछे खड़े थे।

कई बार उनके रिश्तेदारों पर भ्रष्टाचार की रिपोर्ट सामने आई जिसके बाद पन्नीरसेल्वम ने कहा था कि वो सब कुछ लौटाने के लिए तैयार हैं जो उनके परिवार ने अम्मा के न रहने पर कमाया है।

जब स्टालिन ने कहा बेनामी सीएम

सन् 2014 में जब पन्नीरसेल्वम तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बने तो डीएमके नेता एम.के स्टालिन ने उन्हें बेनामी सीएम कहा था।

गुजरात में उत्पीड़न से तंग 300 से ज्यादा दलितों ने अपनाया बौद्ध धर्म

उन्हें जयललिता का बेनामी बताते हुए स्टालिन ने कहा था कि सीएम पद पर रहते हुए पन्नीरसेल्वम की बेबसी कभी माफ नहीं की जाएगी।

स्टालिन ने कहा था कि आपकी ड्यूटी है कि आप तमिलनाडु की जनता की सेवा करें न कि दोषी ठहराए गए अपराधियों (जयललिता और शशिकला) की।

पन्नीरसेल्वम उन मंत्रियों में से एक हैं जिनकी आंखो में जयललिता की गैरमौजूदगी में हो रहे शपथ ग्रहण के दौरान आंसू थे।

इस बार हो सकती है कठिनाई

दो बार सीएम पद के पद पर रहने के बावजूद इस बार पन्नीरसेल्वम के लिए सीएम का पोर्टफोलियो संभालना थोड़ा कठिन हो सकता है। क्योंकि जयललिता के अस्पताल से आने में कितना वक्त लगेगा यह कोई नहीं जानता।

रांची आत्महत्या: आरोपी बहू ने कहा- ससुर ने किया मेरे साथ दुर्व्यवहार

उनके मातहत कम करने वाले एक अफसर ने कहा कि वो न तो बेहतर है बॉस हैं, न कमाण्डर। लेकिन उन्हें व्यवस्था संभालने में कोई दिक्कत नहीं होगी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
unique facts about Panneerselvam
Please Wait while comments are loading...