जयललिता को नहीं पसंद आई थी अपोलो की कॉफी, मेडिकल स्टाफ से कहा था- मेरे घर आओ फिर पिलाती हूं चाय

चेन्नई स्थित अपोलो अस्पताल के मेडिकल स्टाफ ने AIADMK की सुप्रीमो और तमिलनाडु की मुख्यमंत्री रहीं जयराम जयललिता से जुड़े अपने अनुभव और यादें साझा की हैं।

Subscribe to Oneindia Hindi

चेन्नई। ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIADMK)की सुप्रीमो और तमिलनाडु की मुख्यमंत्री रहीं जयराम जयललिता अब हमारे बीच नहीं लेकिन उनकी यादें अब भी उन लोगों के जेहन में जिन्दा हैं जो आखिरी वक्त तक उनके साथ थे।

कुछ ऐसा ही चेन्नई स्थित अपोलो अस्पताल के स्टाफ ने बताया। अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार जयललिता की निगरानी के लिए ड्यूटी पर लगी नर्सों को वो किंग कॉन्ग कहती थीं।

जयललिता के निधन की खबर सुनकर सदमे से अब तक 77 लोगों की मौत

बताया गया कि जयललिता की देखभाल करने के लिए तीन नर्स हमेशा वहीं मौजूद रहती थीं।

 jayalalithaa

मुझे बता दो क्या करना है!

जया को याद करते हुए नर्स सीवी शीला ने बताया कि कई बार वो कहती थीं कि 'तुम मुझे बता दो क्या करना है, मैं कर लूंगी।' बताया कि हमें अन्दर आता देख वो मुस्कुराती थीं और कई मौकों पर उन्होंने सहयोग किया है।

तमिलनाडु नहीं कहीं और ही रखा है जयललिता का 21 किलो सोना

बकौल शीला जब वो जया के आस पास होती थीं, तो भी वो बावजूद मुश्किल के कुछ खाने की कोशिश करती थीं। वो एक-एक चम्मच सभी नर्सों और एक चम्मच अपने लिए खाती थीं।

शीला ने बताया कि जयललिता के खाने के मेनू में उपमा, पोंगल, कर्ड राईट और आलू करी होती थी। इसे उन्हीं का बावर्ची बनाता था।

बता दें कि जया की देखभाल करने के लिए 3 शिफ्ट में 16 नर्सों की ड्यूटी लगाई गई थी। इन नर्सों में से शीला,एमवी रेणुका और समुन्दीश्वरी जयललिता की पसंदीदा थीं।

साझा किए अपने अनुभव

अपोलो अस्पताल में एक श्रद्धांजलि सभा के बाद डॉक्टर, नर्स और अस्पताल के अन्य स्टाफ ने जया से जुड़े अनुभव बताए।

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा- पन्नीरसेल्वम और शशिकला के टकराव की वजह से टूटेगी AIADMK

स्टाफ ने बताया कि अस्पताल में बिताए अपने 75 दिनों के दौरान वो कभी कभी मजाक के मूड में रहती थीं। हमेशा सहयोग करती थीं।

इस दौरान अपोलो के डॉक्टरों का कहना था कि अस्पताल में जयललिता बॉस थीं। डॉक्टरों ने बताया कि 22 सितंबर को उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उस दिन चार घंटे बाद जयललिता की तबीयत सुधरी तो उन्होंने सैंडविच और कॉफी मांगी थी।

मेरे घर चलते हैं...

जयललिता का इलाज करने वाली डॉक्टरों की टीम के प्रमुख सेंथिल कुमार ने कहा कि जब वो थकी नहीं होती थीं, तो ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टरों से बातचीत करती थीं।

मोदी ने खोला, उन्हें मौत का सौदागर कहे जाने का राज, चो रामास्वामी के बारे में 5 खास बातें

बताया गया कि उन्हें अस्पताल की कॉफी नहीं अच्छी लगती थी जिस पर नर्सों से उन्होंने कहा था कि 'मेरे घर चलते हैं। मैं सभी को काडाइनाडु की सबसे अच्छी चाय पिलाऊंगी।

इतना ही नहीं जयललिता ने उनका इलाज करने आए ब्रिटेन के डॉक्टर रिचर्ड बेले से भी कहा था कि वो बॉस हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Apollo doctors shared their feeling when jayalalithaa was admit
Please Wait while comments are loading...