खुशखबरी: पुराने 500 और 1000 रु. के नोट से खरीद सकेंगे मोबाइल!

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। 8 नवंबर को नोटबंदी के ऐलान के बाद अब पूरे देश में 500 और 1000 के पुराने नोटों का इस्तेमाल पूरी तरह से बंद हो चुका है। 500 के नोटों के इस्तेमाल के लिए कुछ जगहों पर छूट दी गई है, लेकिन 1000 का नोट पूरी तरह से चलन के बाहर हो चुका है। लेकिन माना जा रहा है कि जल्द ही पुराने 500-1000 के नोटों का इस्तेमाल बाजार में किया जा सकेगा।

mobile

पुराने नोटों से खरीद सकेंगे मोबाइल फोन

दरअसल नोटबंदी के बाद से स्मार्टफोन्स की बिक्री में 50 फीसदी की गिरावट आई है। लगातार बाजार गिरता जा रहा है। गिर रहे व्यापार से परेशान इंडियन सेल्यूलर एसोसिएशन ने सरकार के सामने एक मांग रखी है। आईएसए ने सरकार से मांग की है कि पुराने 500 और 1000 रुपए के नोट से मोबाइल खरीदारी को मंजूरी दी जाए।

मोबाइल बाजार में गिरावट

आईएसए के नेशनल प्रेसिडेंट पंकज मोहिंद्रू ने मीडिया को जानकारी देते हुए कहा है कि मोबाइल की बिक्री में लगातार गिरावट जारी है। नोटबंदी के बाद से इसमें 40 से 50 फीसदी तक की गिरावट दर्ज की गई है। ऐसे में बाजार को और गिरावट से बचाने के लिए उन्होंने सरकार से मांग की है कि लोगों को पुराने नोटों से मोबाइल फोन की खरीददारी की छूट दी जाए।

पहचान पत्र देना होगा अनिवार्य

उन्होंने कहा कि हमने सरकार को भरोसा दिलाया है कि पुराने नोटों को मोबाइल फोनों की खरीददारी में इस्तेमाल की मंजूरी दिए जाने पर हम इसमें कालाधन का इस्तेमाल नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि पुराने नोटों से फोन खरीदने वालों की पहचान का रिकॉर्ड रखा जाएगा। उनसे आईडी प्रूफ ली जाएगी, जिसे उनके फोन के IMEI नबंर से जोड़ा जाएगा, ताकि सरकार जब चाहे उनकी पहचान कर सके। हलांकि सरकार ने एसोसिशन की इस मांग पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है, लेकिन उन्हें उम्मीद है कि सरकार उनकी मांगों पर ध्यान देगी और बिजनेस और और गिरने से रोकने के लिए कदम उठाएगी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Mobile phone industry body Indian Cellular Association has asked the government to allow use of old Rs. 500 and Rs. 1000 notes for the purchase of handsets and claimed that their sales have come down by 50 percent due to cash crunch post demonetisation.
Please Wait while comments are loading...