RBI ने इस्लामिक बैंकिंग के लिए खोले रास्ते, सरकार को दिया प्रस्ताव

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने सरकार के साथ मिलकर ब्याज मुक्त बैंकिंग शुरू करने का प्रस्ताव दिया है।

reserve bank of india rbi

इस बैंकिंग की शुरूआत करने का प्रस्ताव इसलिए लाया गया है ताकि धार्मिक कारणों से बैंकिंग सिस्टम से दूर रहने वाले लोगों को भी इसका हिस्सा बनाया जा सके।

EXCLUSIVE: राम भरोसे रघुराम का रिजर्व बैंक, 10 रुपए का सिक्का गायब, 10 पैसे का चलन में

इस तरह की बैंकिंग को इस्लामिक फाइनेंस या इस्लामिक बैंकिंग भी कहा जाता है।

सालाना रिपोर्ट में बनाया प्रस्ताव

अपने सालाना रिपोर्ट में आरबीआई ने बीते सप्ताह यह प्रस्ताव बनाया है।

राजन ने फिर की आरबीआई की आजादी की वकालत, कहा- गवर्नर का ओहदा होना चाहिए ऊंचा

यह प्रस्ताव बैंक के बीते राय से अलग है जिसमें कहा गया था कि इस्लामिक फाइनेंस नॉन बैंकिंग चैनल्स की तरफ से निवेश या कोआपरेटिव के जरिए ऑफर किया जा सकता है।

वहीं अपनी साल 2015-16 की वार्षिक रिपोर्ट में केंद्रीय बैंक ने कहा है कि बैंकिंग सिस्टम से अलग रह रहे लोगों को इससे जोड़ने के लिए सरकार के साथ विचार विमर्श कर ब्याज मुक्त बैंकिंग सिस्टम लाने के तरीकों को खोजने का प्रस्ताव किया गया है।

उर्जित पटेल बने आरबीआई के 24वें गवर्नर, संभाला पदभार

देश के दूसरे सबसे बड़े धर्म के करीब 18 करोड़ मुस्लिम बैंकिंग सिस्टम से नहीं जुड़ पाते थे क्योंकि सभी सिस्टम ब्याज आधारित हैं। बता दें कि ब्याज आधारित बैंकिंग इस्लाम में प्रतिबंधित है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Proposal of islamic banking system in country by reserve bank of india-rbi.
Please Wait while comments are loading...