जानें क्या है 'वाइफ टूरिज्म', दुल्हन की खोज में क्यों साइबेरिया पहुंच रहे हैं चीनी लड़के?

लाखों खर्च कर चीनी लड़के रूस जैसे देशों में दुल्हन खोजने जाते हैं, जिसे 'वाइफ टूरिज्म' का नाम दिया गया है।

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। चीन में वन चाइल्ड की सरकार की रणनीति अब वहां से लड़कों पर भारी पड़ रही है। चीनी लड़कों को शादी के लिए लड़कियां नहीं मिल रही है। चीन में लड़कियों की कमी की वजह से उन्हें खुद के लिए दुल्हन की तलाश में दूसरे देश जाना पड़ रहा है। लाखों खर्च कर चीनी लड़के रूस जैसे देशों में दुल्हन खोजने जाते हैं, जिसे 'वाइफ टूरिज्म' का नाम दिया गया है।

marriage

रूस में इसने एक कारोबार का रुप ले लिया है। यहां कई कंपनियां हैं जो इन चीनी लड़कों के लिए लड़कियों से मिलने और उन्हें पटाने का इंतजाम करती हैं। चीन के बड़े-बड़े बिजनेसमैन दुल्हन की तलाश में रूस घूम रहे हैं।

चीनी लड़के रूस को इसलिए तव्वजो देते हैं, क्योंकि वहां की लड़कियां सुंदर और गोरे रंग के साथ-साथ नीली आंखों वाली होती हैं। वहीं इसकी दूसरी वजह ये भी है कि रूस में लड़कों के मुकाबले लड़कियों की तादात काफी अधिक है। ऐसे में चीनी लड़के साइबेरिया के चक्कर लगाते हैं।

रूस की मैरिज एजेंसी चीन से आने वाले बड़े-बड़े उद्योगपतियों की मीटिंग रूसी महिलाओं से करवाती है। इस मीटिंग के लिए चीनी बिजनेसमैन लाखों खर्च करते हैं। कुछ घंटों के लिए लगभग लाखों रुपये देने पड़ते हैं। इस मीटिंग में आने वाली लड़कियों की उम्र 35 साल से कम होती है। इन्‍हें इंप्रेस करने के लिए लड़के गाना गाते हैं तो कोई सैक्‍सोफोन बजाता है। उनका मकसद उन्हें इंप्रेस कर शादी के लिए मनाना होता है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Rich Chinese businessmen pay thousands of pounds to go on 'wife tours' of Siberia due to a shortage of women in their country.
Please Wait while comments are loading...