देश में GST लागू, सबसे पहले इन पर पड़ेगा असर

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। देशभर में आज से जीएसटी लागू हो गया है। संसद के सेंट्रल हॉल में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने घंटी बजाकर देशभर में एक टैक्स सिस्टम को लागू कर दिया। आज से आपको 17 अलग-अलग टैक्सों से आजादी मिल जाएगी। पूरे देश में सिर्फ एक टैक्स लागू होगा। जीएसटी लागू होते ही पूरे देश में नए टैक्स सिस्टम गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स लागू हो गए। ऐसे में ये जानना बेहद जरूरी है कि जीएससी लागू होते ही इसका असर सबसे पहले किन पर पड़ेगा।

 रेस्टोरेंट में खाने खाने वालों पर

रेस्टोरेंट में खाने खाने वालों पर

अगर आप इस वक्त खाना खाने के लिए रेस्टोरेंट या होटल में गए हैं तो जीएसटी का असर सबसे पहले आप पर पड़ेने जा रहा है। अगर आपके खाने का बिल बनते-बनते 12 बज गया तो आपको ज्यादा बिल चुकाना होगा। यानी आप पहले होंगे जो चंद मिनटों के बाद जीएसटी का बिल का असर देखेंगे।

 टैक्सी लेने वालों पर असर

टैक्सी लेने वालों पर असर

अगर आप शुक्रवार की देर शाम या रात को टैक्सी बुक करते हैं तो 12 बजे के बाद आपको जीएसटी टैक्स चुकाने होगे।

 होटल बुकिंग

होटल बुकिंग

अगर आप होटल में ठहरे हुए हैं और अगर छोड़ने के बाद बिल बनते-बनते रात 12 बज गया है तो आपको जीएसटी चुकाना होगा। आधी रात से बने बिल पर सर्विस टैक्स और लग्जरी टैक्स जैसे टैक्स लगने वाले थे, लेकिन अब आपको अपने बिल पर जीएसटी देना होगा। होटल में कमरा बुकिंग पर आपको 21.3 फीसदी के बजाए अब सिर्फ 18 प्रतिशत टैक्स चुकाना होगा। जबकि 1000 से 2500 रुपये के कमरों पर 12 फीसदी जीएससी और 7500 रुपये तक के कमरों पर 18 प्रतिशत जीएसटी लगेगी।

 ऑनलाइन शॉपिंग

ऑनलाइन शॉपिंग

आज से ऑनलाइन शॉपिंग करने वाले को जीएसटी का बिल चुकाना होगा। सरकार ने ऐमजॉन और फ्लिपकार्ट पर वेंडर्स को पेमेंट करते वक्त टैक्स की रकम काटने का दबाव नहीं डालने का फैसला किया है। इससे मामला थोड़ा पेचीदा हो जा रहा है। ईकॉमर्स कंपनियों से 1% टीसीएस (टैक्स कलेक्टेड ऐट सोर्स) वसूला जाएगा।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Prime Minister Narendra Modi formally launched new Goods and Services Tax in Parliament's Central Hall. here you need to know what will be the immediate impact of GST on goods and services
Please Wait while comments are loading...