बैंक अकाउंट में 2.5 लाख से ज्यादा जमा करने वाले डरें नहीं, रखें इन बातों का ध्यान...

अगर बैंक में 2.5 लाख से ज्यादा की रकम जमा करने जा रहे हैं तो डरे नहीं बल्कि कुछ बातों का ख्याल रखें।

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद कालाधन रखने वालों की हालत खराब है। सरकार ने उनके लिए ब्लैकमनी छुपाने की कोई जगह नहीं छोड़ी है। सख्त नियमों के साथ बैंक में कैश जमा किए जा रहे हैं। आयकर विभाग लगातार कैश डिपॉजिट पर नजरें बनाए हुए हैं। इस बीच खबर आई कि 2.5 लाख रुपए से अधिक पैसा अपने अकाउंट में जमा करने वालों के खिलाफ आयकर विभाग नोटिस भेज सकती है। बैंक के सेविंग अकाउंट में ज्यादा पैसा रखने वाले सावधान, जानें क्या होता है नुकसान

cash

इस खबर के बाद जिसके पास 2.5 लाख रुपए से ज्यादा का कैश है वो बैंक में जमा कराने की हिम्मत ही नहीं जुटा पा रहा है। आयकर विभाग लगातार ऐसे लोगों पर नजरें बनाए हुए हैं, जिनके अकाउंट में 2.5 लाख से ज्यादा की धनराशी जमा हुई है, लेकिन टैक्‍स एक्‍सपर्ट की माने तो आपको अगर आपके पास 2.5 लाख से ज्‍यादा का कैश है, तो आप आराम से बैंक में जमा करें, डरे नहीं बस कुछ बातों का ध्यान रखें....

2.5 लाख से ज्यादा पैसा बैंक में जमा करने वाले रखे इन बातों का ख्याल

  • अगर आप 2.5 लाख से ज्यादा की रकम बैंक में जमा करा रहे हैं तो इनकम सोर्स का ख्याल रखें, क्योंकि आयकर विभाग आपसे इसबारे में सवाल पूछ सकती है।
  • आपको बताना होगा कि आपने किस सोर्स से ये पैसा कमाया है।
  • अगर आप ने बिजनेस से कमाया तो उसकी रसीद या जानकारी आप के पास होनी चाहिए।
  • अगर आपने किसी से कर्ज लिया है या आप किसी का उधार चुका रहे हैं तो आपके पास इस के पर्याप्त सबूत होने चाहिए।
  • आप इस धनराशी को अपनी सेविंग के तौर पर दिखा सकते हैं। ध्यान रहें कि आप अपनी सैलरी की 30 से 40 फीसदी रकम सेविंग के तौर पर दिखा सकते हैं।
  • पैन कार्ड डिटेल के साथ राशी अपने बैंक में जमा कराए। गलती से भी दूसरे का पैसा अपने अकाउंट में जमा न कराए।
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The recent notification of the Central Board of Direct Taxes (CBDT) asking banks to furnish details of cash deposits above a certain amount has got many worried about receiving notice from the income-tax department.
Please Wait while comments are loading...