चीन में 22,000 लोगों की नौकरी गई, इनकी भी जा सकती है नौकरी

Subscribe to Oneindia Hindi

बीजिंग। चीन के सरकारी बैंकों ने बड़ी संख्या में छंटनी की है। विश्व की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में इस वर्ष बैंकिंग उद्योग काफी कठिन समय का समाना कर रहे हैं।

इतना ही नहीं इस खराब हालात से मजबूत मानी जाने वाली चीन की सेना भी अछूती नहीं है।

china slow down

चीन के प्रमुख चार बैंकों ने इस साल के पहले अर्धवार्षिक में फ्लैट नेट प्रॉफिट की नकारात्मक रिपोर्ट दी है। इस कारण से 22,260 लोगों की छटनी कर दी गई है। इस बात की जानकारी हांग कांग के साउथ चीन मॉर्निंग पोस्ट ने दी।

खुशखबरी- यूपी में होगी 32 हजार खेल शिक्षकों की भर्ती

इतने लोगों के पास थी नौकरी

इतनी बड़ी संख्या में लोगों का निकाला जाना चिंता कि विषय है क्योंकि साल 2015 के आखिरी में करीब 18.7 लाख लोग इस क्षेत्र में नौकरीशुदा थे।

कश्‍मीर में ISIS की आहट, एनआईए की नजर 12 लोगों पर

जब आर्थिक मंदी जारी रही तो चीन ने इस बात की घोषणा कर दी थी कि उसकी योजना है कि स्टील और कोल उत्पादन की क्षमता में कमी करना है जिसके चलते 18 लाख नौकरियां जा सकती हैं।

चीनी सेना भी नहीं है अछूती

इससे चीन की सेना भी अछूती नहीं है। 23 लाख सैनिकों वाली सेना से भी 3 लाख सैनिक अगले साल तक हटाए जा सकते हैं।

दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार को आधार कार्ड के मसले पर दिया नोटिस

गैर आधिकारिक सूत्रों के अनुसार इस वर्ष चीन के बैंकिंग उद्योग का मुनाफा 3.5 फीसदी कम हुआ है। बीते साल के पहले तिमाहियों में चीन के चार प्रमुख बैंको ने 1 फीसदी से कम का लाभ रिपोर्ट किया था।

इन बैंकों से निकाले गए लोग

कई बैंकों ने विभिन्न श्रेणियों के ह्यूमन रिसोर्स रिफॉम के तौर तहत छंटनी कर कर रही है। बैंक ऑफ चीन ने बताया कि जून 2016 से अब तक 303,161 कर्मियों में 6,881 लोग निकाले जा चुके हैं।

भारतीय मूल की अमेरिकी CEO पर नौकरानी को कुत्ते के साथ सुलाने का आरोप

एग्रीकल्चरल बैंक ऑफ चीन से भी 4,023 स्टाफ कम किए जा चुके हैं। वहीं इंडस्ट्रियल एंड कॉमर्सियल बैंक ऑफ चीन ने भी 7,635 कर्मियों को बाहर का रास्ता दिखाया है। चीन कॉन्सट्रक्शन बैंक ने भी 6,721 कर्मियों की छंटनी की है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
China's state-owned banks cut thousands of jobs.
Please Wait while comments are loading...