वॉरेन बफेट की झोली में हर महीने बरसते हैं 10 हजार करोड़ रुपए

Subscribe to Oneindia Hindi

ओमाहा। इस समय दुनिया के तीसरे सबसे अमीर इंसान वॉरेन बफेट को पैसों की एक अजीब सी समस्या हो गई है। समस्या भी ऐसी कि हर कोई चाहेगा कि पैसों की ऐसी समस्या उसे भी हो जाए। जिसने भी वॉरेन बफेट की इस समस्या के बारे में सुना उसने दांतों तले उंगली दबा ली।

warren buffett

एयरटेल का धांसू ऑफर, महज 17 रुपए में 1 जीबी डेटा, पर है एक शर्त

दरअसल, इन दिनों वॉरेन बफेट के पास कैश इतना अधिक बढ़ गया है कि वह ये नहीं समझ पा रहे हैं कि उसे कहां निवेश करें। वॉरेन बफेट की कंपनी बर्कशायर हैथवे के पास करीब 73 अरब डॉलर यानी करीब 4 लाख करोड़ रुपए जमा हैं, जो अभी तक के सबसे अधिक पैसे हैं।

डोनाल्ड ट्रंप पर महिलाओं ने लगाए निजी अंगों से छेड़छाड़ और किसिंग के आरोप

हर महीने कमा रहे 1.5 अरब डॉलर

बर्कशायर के 90 बिजनेस से वह हर महीने करीब 1.5 अरब डॉलर (करीब 10 हजार करोड़ रुपए) कमा रहे हैं, जो उनके पास पैसों को और बढ़ाता जा रहा है। वॉरेन बफेट के पास पड़ा कैश रोजाना बढ़ता ही जा रहा है क्योंकि उन्होंने कहीं पर बड़ा निवेश नहीं किया है।

बफेट के पास इन पैसों के निवेश के कई विकल्प हैं, जैसे वो कोई पूरा का पूरा बिजनेस की खरीद लें, या कुछ करोड़ शेयर खरीद लें या फिर अपनी कंपनियों द्वारा चलाए जा रहे किसी बिजनेस में पैसा लगाएं।

आतंकी मसूद बोला- थोड़ी हिम्मत दिखाए पाक, 1971 की कड़वी यादें हो जाएंगी खत्म

पैसों के ढेर पर बैठे हैं वॉरेन बफेट

अगर बात की जाए वॉरेन बफेट की कमाई की तो जनवरी से ही वे पैसों को ढेर पर बैठे हुए हैं। आपको बता दें कि जनवरी में वर्कशायर ने इतिहास की सबसे बड़ी डील की थी। यह डील प्रीसिजन कास्टपार्ट्स (Precision Castparts) के साथ विमानन पार्ट बनाने के लिए 32.36 अरब डॉलर यानी 2,160 अरब रुपए में की गई थी।

शुरू हुई पेटीएम की महाबाजार सेल, 100 करोड़ रुपए के कैशबैक की घोषणा

वॉरेन बफेट की कहानी 'ऑफ परमानेंट वैल्यू: द स्टोरी ऑफ वॉरेन बफेट' लिखने वाले निवेशक एंडी किलपैट्रिक का कहना है- 'मुझे लगता है कि वॉरेन बफेट इन दिनों किसी बहुत ही शानदार डील के लिए सही कीमत का इंतजार कर रहे हैं।'

हालांकि, उनकी पूरी रकम वह डील में नहीं लगाएंगे। वॉरेन बफेट अपने पास हमेशा 20 अरब डॉलर रखना चाहते हैं, ताकि अगर बर्कशायर इंश्योरेंस कंपनी को लोगों को क्लेम देने की जरूरत पड़ी तो दिक्कत न हो साथ ही अगर कोई अन्य क्राइसिस आती है, तो भी परेशानी न हो।

अगर 'सर्जिकल स्ट्राइक' हुई होती तो मिलता मुंह तोड़ जवाब: पाकिस्तान

हमेशा तलाशते रहते हैं अधिग्रहण के लिए बिजनेस

बफेट कहते हैं कि वह हमेशा ही ऐसे किसी बिजनेस की तलाश में लगे रहते हैं, जिसका अधिग्रहण किया जा सके, लेकिन किसी कंपनी को उसकी वैल्यू से अधिक कीमत अदा नहीं करते।

ओमाहा यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जॉर्ज मॉर्गेन का कहना है- यह कहना मुश्किल है कि वॉरेन बफेट किस मौके की तलाश कर रहे हैं, हम सिर्फ इंतजार कर सकते हैं और देखते हैं कि वॉरेन बफेट क्या कदम उठाते हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Cash with buffett is piling up so faster than he can invest it
Please Wait while comments are loading...