नोटबंदी के बाद बैंकों ने साथ मिलकर आम आदमी को दिया झटका, आपका हुआ नुकसान

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद पहले तो भारतीय स्टेट बैंक ने झटका दिया था अब एचडीएफसी और आईसीआईसीआई बैंक ने भी आम आदमी को झटका दे दिया है। नोटबंदी की वजह से बैंकों के पास इतना पैसा आ गया है कि अब उन्होंने बैंकों में जमा धनराशि पर दिए जाने वाले ब्याज को घटा दिया है।

sbi

इस ATM में कैश भी है और लाइन भी नहीं, फिर भी कोई पैसा निकालने नहीं आता

बैंक में पैसे बढ़ने के चलते आईसीआईसीआई बैंक ने 390 दिन से दो साल तक की सावधि जमाओं के लिए ब्याज दर में 0.15 प्रतिशत की कटौती की गई है। अब नई दर के अनुसार इन जमाओं पर 7.10 प्रतिशत ब्याज मिलेगा, जो पहले 7.25 प्रतिशत था। आईसीआईसीआई बैंक की वेबसाइट के अनुसार यह दरें बुधवार से ही लागू हो गई हैं।

वहीं एचडीएफसी बैंक ने एक से पांच करोड़ रुपए की जमा धनराशि पर ब्याज दरों में 0.25 प्रतिशत की कटौती की है। बैंक की वेबसाइट के अनुसार नई दरें आज यानी गुरुवार से प्रभावी हो गई हैं।

खुद ही जान लीजिए, कालेधन वाले दे रहे हैं कैसे-कैसे ऑफर

sbi पहले ही घटा चुका है दरें

भारतीय स्टेट बैंक ने एक साल से तीन साल तक के लिए जमा की जाने वाली बड़ी धनराशि पर ब्याज दरों में 15 बेसिस प्वाइंट तक की कटौती कर दी है। 2009 के बाद यह पहली बार है कि एक साल के डिपॉजिट पर 7 फीसदी से भी कम का ब्याज मिल रहा है।

बैंक द्वारा एक साल के लिए जमा धनराशि पर दिया जाने वाला ब्याज 6.9 फीसदी कर दिया है, जो एचडीएफसी बैंक द्वारा दिए जाने वाले 7 फीसदी ब्याज से भी कम है।

आज शाम से ATM पर लगने वाली कतारें हो जाएंगी छोटी, जानिए कैसे

भारतीय स्टैट बैंक ने 465 दिन से लेकर दो साल से कम तक के लिए जमा धनराशि पर मिलने वाले ब्याज में भी 15 बेसिस प्वाइंट की कटौती कर दी है। अब नई ब्याज दर 6.95 फीसदी हो गई है।

वहीं अगर आप दो साल से लेकर तीन साल से कम के लिए पैसे जमा करना चाहते हैं तो भी आपको कम ब्याज मिलेगा। इस सीमा के लिए एसबीआई ने 6.85 प्रतिशत की ब्याज दर तय की है।

लोन हो सकते हैं सस्ते

सरकार द्वारा नोटबंदी का फैसला किए जाने से बैंकों में काफी पैसे आ गए हैं और लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में इसका तोहफा आम आदमी को सस्ते लोन के रूप में मिलेगा।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
banks reduced fixed deposit rates
Please Wait while comments are loading...