1 साल का हुआ 'ऊबर बेबी', कंपनी CEO ने दी 8 लाख की स्कॉलरशिप

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। एक साल पहले ऊबर कैब में जन्में ऊबर बेबी का पहला बर्थडे शानदीर तरीके से मनाया गया है। ऊबर कंपनी के सीईओ ट्रैविस कालानिक भी इस पार्टी में शामिल हुए और ऊबर बेबी के पूरे परिवार को खास तोहफा दिया। ट्रैविस ने बच्चे के 18 साल के होन के बाद पढ़ाई-लिखाई के खर्च के लिए 12 हजार डॉलर के स्कॉलरशिप फंड का भी ऐलान किया।  Video: बरातियों ने उतार दिए दुल्हन के कपड़े, तमाशबीन बनकर हंसते रहे लोग

यानी जब ऊबर बेबी 18 साल को होगा उसे पढ़ाई के लिए कंपनी की ओर से 8.14 लाख रुपए दिए जाएंगे। इस स्कॉलरशिप को पाकर बच्चे का परिवार बेहद खुश है। आपको बता दें बच्चे का ये अनोखा नाम इसलिए रखा गया, क्योंकि वो ऊबर की टैक्सी में पैदा हुआ था। पिछले साल एक महिला ने अस्पताल जाने के लिए ऊबर कैब बुक की थी, लेकिन अस्पताल पहुंचने से ही महिला ने कैब में ही बच्चे को जन्म दे दिया। जानकारी के मुताबिक महिला ने पहले ऐंबुलेंस बुलाने की कोशिश की, लेकिन कोई जवाब न मिलने के बाद उसके पति ने ऊबर टैक्सी बुलाई गई।

OMG! लड़के ने फूलों के बजाए नोटों के गुलदस्ते से किया गर्लफ्रेंड को प्रपोज तो..

पति ने अपनी पत्नी और दो अन्य महिलाओं के साथ अस्पताल भेज दिया, लेकिन रास्ते में ही महिला ने बच्चे को जन्म दे दिया। ऊबर टैक्सी के ड्राइवर ने शाहनवाज खान ने महिला की मदद की। उसने टैक्सी की सीट पर रखे टॉवेल उन्हें दिए। अपने पास रखा पानी उन्हें दिया। फिर बच्चे के जन्म के बाद उन्हें अस्पताल पहुंचाया। उसी ने परिवार को सलाह दी कि वो बेटे का नाम 'ऊबर' रखे। परिवारवाों ने उसकी सलाह को मानते हुए बच्चे का नाम ऊबर रख दिया।  गौरतलब है कि ऊबर कंपनी का नाम एक बलात्कार मामले के चलते काफी सुर्खियों में रहा। हाल ही में ऊबर कैब के ड्राइवर शिवकुमार को महिला के साथ रेप और हत्या की कोशिश के आरोप में उम्रकैद और फांसी की सजा सुनाई गई।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Uber CEO Travis Kalanick met the baby who was named after the company and announced that the company would sponsor the child's higher education. A scholarship fund of 12,000 US Dollars, approximately Rs 8.14 lakh, has been allotted by Uber, for Uber.
Please Wait while comments are loading...