डायलिसिस सेंटर ने नहीं लिए पुराने नोट, किडनी फेल होने से महिला की मौत

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

बिहार। बिहार के गया में किडनी फेल होने के बाद इलाज के लिए गई महिला के परिजनों के पास नए नोट नहीं थे, डायलिसिस सेंटर ने पुराने नोट लेकर इलाज से इंकार कर दिया। इलाज ना मिलने से महिला ने दम तोड़ दिया।

note

किडनी की समस्या से जूझ रही जूझ रही मंजू देवी की तबीयत खराब होने पर उसका पति गया के अनुराग नारायण मगध मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल ले गया था। मंजू का पति एक दिहाड़ी मजदूर है। डॉक्टकों ने पाया कि गर्भपात हो जाने और किडनी फेल की वजह से मंजू की स्थिति गंभीर है।

नोटबंदी: यौन शोषण की पीड़ितों को नहीं मिल पा रही मुआवजे की रकम

डॉक्टरो ने बुधवार को मंजू को डायलिसिस सेंटर रेफर कर दिया। जब परिजनों ने डायलिसिस सेंटर पर बुकिंग कराई तो वहां पुराने नोट लेने से इंकार कर दिया गया। डायलिसिस मुंबई की एक मल्टीनेशनल फर्म द्वारा चलाया जाता है।

परिजनों ने जब डॉक्टरों से डायलिसिस सेंटर के पुराने नोट ना लेने की बात बताई तो डॉक्टरों ने सेंटर को चिट्ठी लिखकर सरकार के नियम का हवाला देते हुए पुराने नोट लेने की बात कही।

नोटबंदी का दिखा असर, 39 महीने के सबसे निचले स्तर पर रुपया

डॉक्टरों की चिट्ठी के बावजूद डायलिसिस सेंटर ने नहीं किया इलाज

अस्पताल सुपरिटेंडेंट डॉ. सुधीर सिन्हा ने बताया कि डायलिसिस सेंटर ने ना अस्पताल की बात मानी, ना ही सरकारी नियम को माना और पुराने नोट लेने से इंकार कर दिया।

डायलिसिस सेंटर ने महिला को भर्ती नहीं किया जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई। गया जिले की पुलिस ने भी इस मामले में अपनी जांच शुरू कर दी है।

कोई सर्जरी तो कोई मेटरनिटी लीव छोड़कर कर रहा है बैंक की ड्यूटी, फिर भी गुस्से के शिकार

आपको बता दें कि 8 नवंबर को पीएम मोदी के 500 और 1000 को नोट पर बैन के ऐलान के बाद जनता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। देशभर में पिछले 15 दिन में 80 से ज्यादा मौत हो चुकी हैं, जिनका संबंध नोटबैन से है। इसको लेकर विपक्षी पार्टियां संसद से लेकर सड़क तक विरोध प्रदर्शन कर रही हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Dialysis centre not accept old notes woman dies
Please Wait while comments are loading...