भोपाल जेलब्रेक व सिमी आतंकियों के एनकाउंटर मामले की जांच करने को NIA ने रखी शर्त

Subscribe to Oneindia Hindi

भोपाल। सिमी आतंकियों के एनकाउंटर में मारे जाने से जुड़े मामले की जांच राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी यानी एनआईए के करने पर अभी संदेह बना हुआ है।

भोपाल जेलब्रेक व सिमी आतंकियों के एनकाउंटर मामले की जांच करने को NIA ने रखी शर्त

भोपाल सेंट्रल जेल से भागे सिमी आतंकियों के मारे जाने की जांंच एनआईए तभी करेगा जब मध्‍य प्रदेश पुलिस इस बात के सबूत जुटा ले कि मारे गए आतंकियों को सीधे तौर पर कोई बाहरी आतंकी संगठन मदद कर रहा था।

भोपाल एनकाउंटर पर बोले मुनव्‍वर राणा- 5-10 पुलिसवाले ना मरें तो मुठभेड़ कैसा

एक एनआईए ऑफिसर ने बताया कि,'अगर जेल तोड़कर भागने और आतंकियों के एनकाउंटर में किसी तरह से भी आतंकी संगठन का हाथ है, तभी एनआईए इस केस को अपने हाथ में लेगी। एनआईए एक्‍ट भी इस बात की इजाजत नहीं देता है। हालांकि, इन दोनों मामलों की सीबीआई जांच कर सकती है।'

भोपाल जेलब्रेक व सिमी आतंकियों के एनकाउंटर मामले की जांच करने को NIA ने रखी शर्त

गृह मंत्रालय ने साफ किया है कि राज्‍य सरकार अगर इन मामलों की जांच के लिए लिखित रूप से मांग करती है तो एनआईए जांच कराई जाएगी। यह निर्णय इन मामलों में दर्ज हुईं एफआईआर के आधार पर लिया जाएगा।

भोपाल एनकाउंटर मामले की न्यायिक जांच के आदेश

हालांकि, एनआईए जांच की मांग हो रही है लेकिन राज्‍य सरकार ने एनकाउंटर को सही बताते हुए ऐसा कराने से इनकार कर दिया है। सरकार जेल तोड़ने के मामले को एनआईए को सौंपने के लिए झुकती दिख रही है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
NIA may not be able to take up Bhopal jailbreak or encounter probe.
Please Wait while comments are loading...