नोट बैन: नेता ने गांव वालों को बांट दिए 3-3 लाख रुपये

1000 और 500 के नोट पर बैन लगाए जाने के बाद इसके कई तरह के परिमाण सामने आ रहे हैं।

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

कर्नाटक। 1000 और 500 के नोट पर बैन लगाए जाने के बाद इसके कई तरह के परिमाण सामने आ रहे हैं। कहीं इसको लेकर विरोध है तो कहीं समर्थन। इससे अलग कुछ लोगों ने अपने पुराने नोटों को नये नोटों से बदलने के इंतजाम भी शुरू कर दिए हैं।

note

कर्नाटक के कोलार से आई एक खबर के मुताबिक, वहां एक व्यक्ति ने बाकयादा तंबू गाड़कर गांव के लोगों को रुपये बांटे। उसने गांववासियों को 3-3 लाख रुपये बांट दिए।

शादी का कार्ड लेकर बैंक पहुंचा युवक, कल बेटी की शादी मैं क्या करूं

दरअसल एक राजनीतिक पार्टी से जुड़े इस व्यक्ति के पास भारी मात्रा में कैश था तो उसने उसने 500 और 1000 के नोट पर बैन की खबर के बाद गांव के लोगों को तीन-तान लाख रुपये बांट दिए।

अगर आप समझ रहे हैं कि इस शख्स ने यूं ही ये रुपया ग्रामीणों में बांट दिया तो ऐसा नहीं है। दरअसल उसने सभी गांव वालों को पैसा इसलिए दिया है ताकि वो नए नोटों से बदलकर उसे रकम वापस कर दें।

100 और 50 रुपये के नोट को लेकर सामने आई बड़ी जानकारी

गांव वालों को इस रकम को बदलने के लिए कुछ पैसे देने की बात इस व्यक्ति ने जरूर कही है। गरीब गांव वालों ने भी कुछ पैसे के बदले इस व्यक्ति के पैसे बदलने की बात स्वीकार ली।

8 नवंबर को पीएम मोदी ने की थी बैन की घोषणा

आपको बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार 500 और 1000 के नोट पर बैन की बात कही थी। राष्ट्र के नाम संबोधन में पीएम ने कहा था कि ब्लैक मनी पर प्रहार करने के लिए 1000 के नोट बंद होंगे जबकि 500 के नोट बदले जाएंगे।

मोदी सरकार के नोट बैन को केजरीवाल ने कहा अजीब फैसला

पीएम ने 1000 और 500 रुपये के मौजूदा करंसी नोटों को 8 नवंबर की रात 12 बजे से बंद करने का ऐलान किया। पीएम मोदी ने कहा था कि 500 और 1000 रुपये के करैंसी नोट कानूनी रूप से मान्य नहीं रहेंगे।

पीएम मोदी ने इस बैन का उद्देश्य बताते हुए कहा कि हम जाली नोटों और करप्शन के खिलाफ जो जंग लड़ रहे हैं, इससे उस लड़ाई को ताकत मिलेगी।

500 और 1,000 की करेंसी को बदलने के पीछे है ये खेल

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Karnatka local leaders organise loan mela after note ban
Please Wait while comments are loading...