प्रोड्यूसर बनना चाहता था एक्‍टर, पैसों के लिए किया किर्लोस्‍कर के MD के बेटे का अप‍हरण

Subscribe to Oneindia Hindi

बेंगलुरु। प्रतिष्ठित इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स कंपनी किर्लोस्‍कर के एमडी विनायक बापट के बेटे की किडनैपिंग की गुत्‍थी सुलझ गयी है। पुलिस ने इस मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।

 Actor arrested for kidnapping Kirloskar MD's son

अपहरणकर्ता लड़के को यलहंका न्यू टाउन में रखे थे जहां से पुलिस की टीम ने उसे सुरक्षित रिहा करा लिया है। हैरान करने वाली बात ये है कि अपहरण करने वाली गैंग का सरगना कन्‍नड़ फिल्‍म में काम कर चुका है। उसका नाम मुनियप्पा है।
दिल्‍ली को शर्मसार करते ये आंकड़े, यहां सुरक्षित नहीं महिलाएं 

कब और कैसे हुआ था अपहरण?

विनायक बापट का 19 साल का बेटा इशान इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है। 23 अगस्‍त को कॉलेज से लौटते वक्‍त मुनियप्‍पा एंड गैंग ने उसका अपहरण कर लिया। अपहरण के बाद इशान के फोन से पहले उसकी एक महिला मित्र को फोन किया गया फिर उसके बाद विनायक बापट को।

फिरौती की कॉल आने के बाद बापट ने इसकी सूचना फौरन नजदीकी पुलिस स्‍टेशन को दी। उसके बाद डीसीपी पीएस हर्षा के नेतृत्व में 10 टीमें तैयार की गईं। इन टीमों में साइबर पुलिस एक्सपर्ट भी शामिल किए गए।

बिल्‍कुल फिल्‍मी स्‍टाइल में पुलिस ने किया केस वर्कआउट

पुलिस कमिश्नर एनएस मेघारिक के मुताबिक पुलिस के कहने पर लड़की ने फिरौती की रकम तय करने के लिए अपहर्ताओं को एक खास जगह बुलाया। जिस ऑटो में वह वहां पहुंची उसमें ऑटो ड्राइवर के तौर पर पुलिस का सिपाही मौजूद था।

जबकि आसपास टैक्सी ड्राइवर के रूप में कई पुलिस वाले मौजूद थे। तयशुदा जगह पर पहुंचते ही लड़की ने प्लान के मुताबिक ऑटो ड्राइवर से झगड़ा शुरू कर दिया।

इस बीच गैंग का एक सदस्य जो इस लड़की से मिलने वहां आया था बीच-बचाव के लिए पहुंचा और पुलिस के हत्थे चढ़ गया। उसकी पहचान 26 साल के हसन डोंगरी के तौर पर हुई।

उससे पूछताछ करने पर गिरोह के अन्य चार सदस्यों का पता चला। फिर 29 साल के मुनियप्पा, 32 साल के जगदीश, 19 साल के जगन्नाथ और 19 साल के केंचा की गिरफ्तारी हुई।

फिल्‍म प्रोड्यूस करना चाहता था मुनियप्‍पा

पुलिस के मुताबिक इस गैंग का सरगना मुनियप्पा कन्नड़ फिल्म में काम कर चुका था। अब वो एक फिल्म प्रोड्यूस करना चाहता था। इसके लिए उसे ज्‍यादा पैसों की जरूरत थी। काफी सोचने के बाद उसने किडनैपिंग का प्‍लान बनाया।

शिकार की तलाश में वो घूम ही रहे थे कि मलेश्‍वरम इलाके में उन्‍हें एक बंगला दिखा। बंगले के अंदर कई विदेशी कारें थी। इसे देखने के बाद मुनियप्‍पा की गैंग ने प्‍लान बनाया और 15 दिनों तक इशान की हर गतिविधियों पर नजर रखी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Bengaluru police have cracked the high profile abduction case of the 19 year old son of managing directors of the Kirloskar company with the arrest of five men including the alleged kingpin of the gang identified as Muniyappa with aspirations of making it big in Sandalwood movie industry.
Please Wait while comments are loading...