मूक-बधिर स्कूल में हुआ बलात्कार, पीड़िता नहीं चाहती गर्भपात

Subscribe to Oneindia Hindi

अहमदाबाद। पलदी विकास गृह में रह रही रेप पीड़िता को को कोर्ट ने गर्भपात की इजाजत दे दी, लेकिन रेप पीड़िता ने अब गर्भपात नहीं कराने की बात कही है। गुजरात हाई कोर्ट में पीड़िता ने कहा कि वह गर्भपात नहीं कराना चाहती है।

रेप में नाकाम युवक ने नवविवाहिता को जिंदा जलाया

Rape survivor refuses to abort seeks courts permission

स्कूल में ही हुआ था बलात्कार

विकास गृह में 56 वर्षीय अमृत परमार ने यहां रहने वाली मूक-बधिर छात्रा के साथ कथित रूप से बलात्कार किया था, जिसके बाद विकास गृह के अधिकारी नयना शाह ने पीड़िता जोकि 23 हफ्ते की गर्भवती हैं के लिए कोर्ट में गर्भपात कराने की इजाजत मांगी है।

पहले राजी थी गर्भपात को

याचिका में शाह ने कहा कि पहले महिला गर्भपात कराना चाहती थी, लेकिन संस्थान की दो शिक्षिकाओं ने पीड़िता से बात की जिसके बाद पीड़िता ने गर्भपात नहीं कराने का फैसला लिया है।

कोर्ट ने तलब की मेडिकल रिपोर्ट

जस्टिस सोनिया गोकनी ने वीएस अस्पताल से मेडिकल रिपोर्ट तलब की और पीड़िता का स्वास्थ्य जानने की कोशिश की। जिसमें कहा गया है कि गर्भावस्था में पीड़िता पर किसी भी तरह का असर नहीं पड़ेगा। जिसके बाद कोर्ट ने एक्सपर्ट की टीम बनायी जिसके जरिए यह जानने की कोशिश की जाए की पीड़िता क्या चाहती है।

कमेटी यह जानने की कोशिश करे कि क्या पीड़िता गर्भपात चाहती है या नहीं। जिसके बदा दूसरी बार कोर्ट में पीड़िता की बात को रखा गया है। मंगलवार को कोर्ट में सुनवाई के दौरान पीड़िता ने कहा कि वह गर्भपात नहीं कराना चाहती है। पीड़िता ने दो शिक्षिकाओं व डॉक्टर की मौजूदगी में अपनी राय रखी, इस दौरान मूक बधिरों के लिए चलने वाले स्कूल के डायरेक्टर, पुलिस अधिकारी वह अन्य विकास गृह के प्रतिनिधि मौजूद थे।

गर्भपात के लिए जाना होगा उपरी अदालत

पीड़िता की इच्छा के बाद कोर्ट अपना फैसला जल्द ही सुनायेगा। लेकिन अगर संस्थान पीड़िता का गर्भपात कराना चाहती है तो उसे उच्च अदालत का दरवाजा खटखटाना होगा क्योंकि पीड़िता अब 20 हफ्ते की गर्भावस्था की अवधि को पार कर चुकी है। वहीं गर्भावस्था निरोधी कानून के तहत 20 हफ्ते से अधिक के गर्भधारण की अनुमति नहीं है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Rape survivor refuses to abort seeks courts permission. She was raped by an old worker working in the deaf school in Ahmedabad.
Please Wait while comments are loading...