वेतन ना मिलने के चलते किंगफिशर के पायलट हड़ताल पर, उडाने रद्द

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

Kingfisher
किंगफिशर पायलट एक बार फिर से हड़ताल पर बैठ गए हैं और उनके इस कदम के चलते किंगफिशर को आज तकरीबन 28 उड़ानें रद्द करनी पड़ीं। इस हड़ताल के पीछे कंपनी द्वारा पायलटों के पांच महीन का वेतन ना दिए जाने की वजह बताई जा रही है। रद्द हुई उड़ानों में मुख्य रुप से मुम्बई और दिल्ली की उड़ानें शामिल हैं। अकेले दिल्ली से कुल 25 उड़ाने रद्द हुई हैं।

किंगफिशर के प्रवक्ता द्वारा बताया गया कि हमने पहले ही अपने कर्मचारियों से वायदा किया है कि सोमवार तक उनका वेतन उन्हें मिल जाएगा। साथ ही रद्द उड़ानों के बारे में पूछने पर उन्होंने बताया कि यात्रियों की टिकटें या तो फिर से बुक की जाएंगी या फिर उन्हें उनके पैसे वापस कर दिये जाएंगे।

पिछले महीने से लेकर अब तक यह तीसरी बार है कि किंगफिशर के पायलट हड़ताल पर चले गए हैं। इससे पहले 11 जुलाई को भी हड़ताल के चलते किंगफिशर की 12 उड़ाने रद्द हो गई थीं। किंगफिशर के प्रव्क्ता ने बताया "शुक्रवार की शाम तक कर्मचारियों अकाउंट में सैलरी ना आने की वजह से कर्मचारयों एक सेक्शन ने यह फैसला किया है कि वो वेतन मिलने तक काम पर नहीं आएंगे। किंगफिशर यह बताना चाहती है कि 75 प्रतिशत से ज्यादा कर्मचारियों को उनका वेतन शुक्रवार को मिल गया था।"

किंगफिशर इस समय इन सभी परेशानियो के चलते 64 के बदले केवल 15 उड़ानें चला रहा है। पिछले कई महीनों से बुरे वक्त से गुजर रही इस कंपनी के काफी पायलट व कर्मचारी काम छोड़कर जा चुके हैं और वो भी सिर्फ वेतन ना मिलने की वजह से। अप्रैल माह में 200 से ज्यादा इंजिनियर्स ने वेतन की समस्या को लेकर हड़ताल की थी।

ज्ञात हो कि हाल ही में यह खबर भी आई थी कि माल्या का गोवा का बंगला सहित किंगफिशर की कुछ जायदाद बैंक द्वारा उसके बकाये को पूरा करने के लिए नीलाम कर दी जाएगी। हालांकि अभी तक इस बात की कोई पुख्ता जानकारी नहीं मिली है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Kingfisher Airline pilot are again on strike as their five month salary is still pending. Spokesperson said that they will get the salary my coming Monday as the 75 percent employees already got their salary.
Please Wait while comments are loading...