फीस ना भरने पर प्रिंसिपल ने छात्र पर मढ़ा गे का कलंक

Subscribe to Oneindia Hindi

Father fails to pay fees, school ‘brands boy gay'
बैंगलोर। देश का आईटी हब कहे जाने वाले शहर बैंगलोर के एक स्‍कूल में ऐसी घिनौनी हरकत सामने आई है जिसने शिक्षा के मंदिर को कंलकित कर दिया है। यहां के एक स्‍कूल में एक छात्र को पहले तो अंधेरे कमरे में रात भर के लिये बंद कर दिया गया और फिर जब वह एक्‍स्‍ट्रा ट्यूशन फीस नहीं दे सका तो उसे स्‍कूल से निकाल दिया गया। मामले ने तुल पकड़ा और कंज्‍यूमर फोरम ने दखल दी तो स्‍कूल के प्रिंसिपल ने बच्‍चे पर होमोसेक्‍शुअल यानि कि गे होने का आरोप लगा दिया। फोरम ने स्‍कूल को बच्‍चे की फीस लौटाने और मुआवजा देने का आदेश दिया है।

प्राप्‍त जानकारी के अनुसार गौतम (बदल हुआ नाम) ने सेंट जॉर्ज हाईस्‍कूल में जून 2011 में एडमिशन लिया और 15 हजार रुपये फीस दी। करीब एम महीने बाद गौतम को क्‍लास टेस्‍ट देने से रोक दिया गया और पिता रामनाथ (बदला हुआ नाम) को स्‍कूल के प्रिंसिपल से मिलने के लिये बुलाया गया। रामनाथ को बताया गया कि उनके बेटे ने हॉस्‍टल के कुछ लड़कों से लड़ाई की है और वॉडर्न ने डार्क रूम में बंद कर दिया है।

रामनाथ अपने बेटे गौतम को घर ले आए और एक दिन बाद फिर उसे स्‍कूल भेजा। स्‍कूल ने गौतम को स्‍कूल में रखने से इंकार कर दिया जब रामनाथ ने गौतम के लिये अलग टीचर रखने के लिये 7 हजार रुपये देने में असमर्थता जताई। रामनाथ के पैसे न देने तक स्‍कूल ने ट्रांसफर सर्टिफिकेट भी देने से मना कर दिया। उसके बाद रामनाथ ने कंज्‍यूमर फोरम में गुहार लगाई।

फोरम ने प्रिंसपिल को 15 दिनों के भीतर ट्यूशन फीस लौटने के साथ 5,000 रुपए का कॉम्पेंसेशन भी देने के निर्देश दिए। हांलाकि प्रिंसिपल इस बात पर कायम है कि गौतम दूसरों बच्‍चों को परेशान करता है। प्रिंसिपल ने कहा कि वह दूसरे बच्‍चों के साथ गे सेक्‍स की कोशिश कर रहा था। उसे स्कूल से नहीं निकाला गया था लेकिन वह 10 अक्टूबर, 2011 से लगातार स्कूल नहीं आया।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
A Bangalore school has been directed to return a special student's fees and pay him compensation for mental agony as its principal had alleged that "he imposed homosexuality" on hostel mates after the child's father moved a consumer forum demanding his fees refund.
Please Wait while comments are loading...