छींक आना शकुन-अपशकुन दोनों, जानिए कैसे?

Written by: पं.अनुज के शुक्ल
Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। परंपराएं जितनी प्राचीन होती जाती है, उनमें अंधविश्वास उतना गहरा होता जाता है। हालांकि हर परम्परा विश्वास की नींव पर ही टिकी होती है। विश्वास और अंधविश्वास में लेशमात्र का अन्तर होता है। आज हम आपको एक ऐसी मान्यता के बारे में बताने जा रहें जो शकुन-अपशकुन दोनों की श्रेणी में आती है। छींक आना एक ऐसी क्रिया है जिस पर आपका जोर नहीं है। वह कभी भी, कहीं पर आ सकती है।

छींक आना शकुन-अपशकुन दोनों, जानिए कैसे?

आइये जानते है छींक का कब आना शकुन है और कब अपशकुन है...

1-यदि आप घर से किसी कार्य हेतु निकल रहे है और कोई सामने से छींकता है तो समझो कार्य में बाधा आयेगी और एक से अधिक बार छींकने से कार्य आसानी बनता है।
2-यदि कोई जातक सुबह 6 बजे से 10 बजे तक पूर्व की दिशा में छींकने की आवाज सुनता है तो उस दिन कई प्रकार कष्ट झेलने पड़ सकते है।
3-सुबह 10 बजे से 01 बजे तक छींक सुनने पर शारीरिक कष्ट, अपरान्ह 01 बजे से 03 बजे तक छींक सुनने पर स्वादिष्ट भोजन प्राप्त होता है। दिन के चौथे पहर में 3 बजे से शाम 6 बजे तक जब कोई छींक सुनता है तो किसी मित्र से मिलने का अवसर मिलता है।
4-अगर आप किसी यात्रा में या किसी आवश्यक कार्य हेतु घर से जा रहे है और आपके बांयी ओर कोई छींकता है तो इसे अशुभ माना जाता है। हो सके तो घर से नहीं निकलना चाहिए। फिर भी अगर निकलना जरूरी है तो एक लौंग खाकर घर से निकलें।
5-यदि आप कोई वस्तु की खरीद्दारी कर रहें है और उसी समय आपको छींक आ जाये या कोई सामने छींक दें तो खरीदी गई वस्तु से लाभ होने की सम्भावना रहती है।
6-सोने पूर्व और जागने के तुरन्त बाद छींक का सुनना अशुभ माना जाता है।
7-यदि आपने नया घर बनवाया है और उसमें गृह प्रवेश करते हुये कोई छींक दे तो कम से कम 4 घण्टे के लिए गृह प्रवेश को स्थगति कर दे उसके बाद गणेश जी को घर में प्रवेश करायें और फिर आप लोग घर में जायें।
8-अगर आप किसी नयें व्यापार का शुभारंभ कर रहें है और उस समय छींक आ जाये तो व्यापार में सफलता मिलने के संकेत रहते है।
9-किसी मरीज को अस्पताल ले जाते वक्त या दवा खरीदते समय छींक आ जाये तो समझो मरीज शीघ्र ही स्वस्थ्य होने वाला है।
10-कोई धार्मिक कार्य या अनुष्ठान करते वक्त कोई छींकता है तो कार्य में बाधायें आती है।
11-भोजन करने से पूर्व छींक आने पर अशुभ होता है। इसी समय यदि कोई दूसरा छींके तो किये हुये भोजन से स्वास्थ्य खराब हो सकता है।
12-यदि आप परीक्षा देने जा रहें है या दे रहें है और उस समय कोई आपके पीछें से छींक रहा है तो परीक्षा में असफलता मिलने की सम्भावना रहती है।   Must See: हंसने के स्टाइल से जानिए व्यक्ति का स्वभाव

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In northern parts of India, sneezing before stepping out of the house or at the onset of a new task or journey is considered ill luck.
Please Wait while comments are loading...