जानिए नवरात्र के किस दिन कौन से रंग के पहने कपड़े

By: पं0 अनुज के शुक्ल
Subscribe to Oneindia Hindi

नौवें दिन लगभग हर घर में मॉं दुर्गा के नौं रूपों का विधिवत पूजन अर्चन होता है। जो जातक कलश स्थापना करके पूरे नवरात्र व्रत रखकर मॉं दुर्गा की उपासना करते है। उन्हें नौं दिनों तक मॉं के स्वरूप के अनुसार उन रंगों के कपड़ों का प्रयोग करने से विशेष लाभ मिलता है। आइये जानते है किस दिन कौन से रंग के कपड़ों को पहनना चाहिए।

Know which dress you should wear according Navratri
 

पहला दिन- दुर्गा जी का पहला स्वरूप ''शैलपुत्री''। इनके कपड़ा का रंग लाल होता है। इसलिए नवरात्र के प्रथम दिन लाल रंग के कपड़े पहनने चाहिये।

दूसरे दिन- नवरात्र के दूसरे दिन मॉं ब्रहमचारिणी की पूजन किया जाता है। इस दिन नवरात्र साधकों को रॉयल ब्लू रंग के कपड़ो इस्तेमाल करना चाहिए।

तीसरे दिन- नवरात्र के तीसरे दिन मॉं चन्द्रघंटा की आराधना की जाती है। इसलिए आज के दिन साधको को पीले रंग के कपड़ों का ज्यादा प्रयोग करना चाहिए।

चौथे दिन- मॉं दुर्गा का चौथा स्वरूप कूष्माण्डा देवी का होता है। आज के दिन कूष्माण्डा देवी स्तुति की जाती है। इसलिए चौथे दिन साधकों को हरे रंग के कपड़ों पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए।

पॉचवें दिन- नवरात्र के पॉचवें दिन मॉं स्कन्दमाता की उपासना की जाती है। आज के दिन जातकों को ग्रे रंग के कपड़े पहनना चाहिए।

छठें दिन- मॉं दुर्गा के छठें स्वरूप का नाम कात्यानी देवी है। इस दिन मॉ कात्यानी देवी का पूजन अर्चन किया जाता है। छठें दिन साधकों को ऑरेंज रंग के कपड़े पहनने चाहिए।

सातवें दिन- नवरात्र के सातवें दिन मॉं कालरात्रि की उपासना की जाती है। इस दिन साधकों को सफेद रंग के कपड़े पहनने से लाभ मिलता है।

आठवें दिन- आठवें दिन दुर्गा की आठवीं शक्ति महागौरी की पूजा की जाती है। महागौरी का स्वरूप गुलाबी रंग का होता है, इसलिए आज के दिन साधकों को गुलाबी रंग के कपड़ों का अधिक प्रयोग करना चाहिए।

नौवें दिन- नवरात्र के नौवें दिन आदि शक्ति के नौवें स्वरूप मॉ सिद्धदात्री की आराधना की जाती है। मॉं सिद्धदात्री का रंग पूर्ण गौर वर्ण है। इसलिए नौवें दिन साधकों को सफेद रंग के कपड़े पहनने से सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त है।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Know which dress you should wear according Navratri.
Please Wait while comments are loading...