59 वर्ष बाद दिवाली पर महासंयोग, जानिए क्या है खास?

31 अक्टूबर से मंगल उच्च का हो जायेगा इसलिए इस बार ये दिवाली बहुत खास है।

Written by: पं. अनुज के शुक्ल
Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। ये दिवाली बहुत खास है क्योंकि इस बार ग्रहों का जो योग इस पर्व के लिए बन रहा है वो पूरे 59 वर्ष पूर्व यानि 1957 में बना था। अबकी बार 30 अक्टूबर को दीवाली मनाई जायेगी। उस समय भचक्र में सूर्य नीच का, शुक्र व शनि वृश्चिक राशि में, एंव गुरू कन्या राशि में गोचर करेगा। 31 अक्टूबर से मंगल उच्च का हो जायेगा।

जानिए छोटी दिवाली यानी नरक चतुर्दशी और बजंरग-बली का कनेक्शन

आईये जानते है दीवाली के शुभ अवसर पर विभिन्न राशियों पर ग्रहों का क्या प्रभाव पड़ेगा ?

  • मेष- इस राशि के लोगों के सप्तम भाव में चन्द्रमा गोचर करेगा एंव साथ में नीच का सूर्य रहेगा। इसलिए जुये में ज्यादा धन लेकर न बैठें।
  • वृष- छठें भाव में बैठे सूर्य व चन्द्र आपके विराधियों को षडयन्त्र करने का मौका दे सकते है। अतः दीवाली के त्यौहार में अपने समान की सुरक्षा रखें।
  • मिथुन-धनेश पंचम भाव में बैठा है, इसलिए जो लोग इस दीवाली में जुऑ खेलेंगे उन्हें लाभ की सम्भावना है। 
  • कर्क- लग्नेश व धनेश चौथे भाव में स्थित है। इनकी युति से कुछ लोगों पर मॉ लक्ष्मी की विशेष कृपा बरस सकती है। 
  • सिंह-पंचमेश सूर्य नीच का होकर तृतीय भाव में बैठा है। जिस कारण कुछ लोगों को निर्णय लेने में दिक्कत होगी।

आगे की बात तस्वीरों में...

कन्या

आपका लग्नेश सूर्य व चन्द्रमा के साथ दूसरे भाव में स्थित है। परिवार में थोड़ी तनाव की स्थिति बन सकती है। आप-अपनी वाणी में सौम्यता व धैर्य बनायें रखें। शुक्र धनेश होकर तृतीय भाव में शनि के साथ बैठा है। आप-अपने बल बुद्धि के दम पर धन का अर्जन कर सकते है।

तुला

इस राशि वाले लोगों के प्रथम भाव में नीच का सूर्य व चन्द्रमा स्थित है। कुछ लोगों के दिमाग पर नकारात्मक उर्जा हावी रह सकती है। इसलिए सोंच विचारकर ही निर्णय लें। धनेश मंगल तीसरे भाव में बैठा है। जिस कारण कुछ लोगों को जुयें से थोड़ा बहुत लाभ मिल सकता है।
8.

वृश्चिक

आपके लग्न भाव में शनि व शुक्र की युति है। शनि बेवजह के तनाव उत्पन्न करेगा है और शुक्र आपकी इच्छाओं की पूर्ति करायेगा। इस समय आपको सहनशीलता का परिचय देना होगा। लाभेश बुध शुभ स्थिति में है, इसलिए जुयें खेलने से कुछ लोगों को थोड़ा लाभ हो सकता है।

धनु

आपके 12वें भाव में शनि व शुक्र की युति है एंव लग्न में मंगल बैठा है। इस कारण कुछ लोगों को पटाखों से चोट-चपेट लग सकती है। खासकर अपनी ऑखों का विशेष खयाल रखना होगा। लाभ भाव में सूर्य, चन्द्र की युति है, इसलिए जुऑ खेलने से बचना होगा अन्यथा धन की हानि हो सकती है।

मकर

आपके लाभ भाव में शुक्र व शनि रहेगा। लग्नेश लाभ भाव में होने से आपको अपनी बुद्धि के बल पर फायदा हो सकता है। जुयें खेलने वाले व्यक्तियों को लाभ की उम्मीद है लेकनि ज्यादा लालच में न पड़े। घर के बच्चों को आग से दूर रखें वरना हानि हो सकती है।

कुम्भ

आपके भाग्य भाव में सूर्य व चन्द्र की युति है। जिस कारण कुछ लोगों का भाग्य पक्ष बलवान होकर शुभ फल देगा। विदेश यात्रा जाने के इच्छुक जाताको की मुराद पूरी हो सकती है। जो लोग जुॅआ खेलना चाहते है, वह अपनी पत्नी से धन उधार लेकर खेले तभी लाभ मिल सकता है।

मीन

लग्नेश गुरू छठें भाव में रहेगा। जिस कारण कुछ लोगों को विपरीत लिंग के प्रति आकर्षण बना रहेगा। कुछ ऐसा न करें जिससे आपकी साफ-सुथरा छवि धूमिल हो। लाभेश शनि भाग्य भाव में एंव सुर्य, चन्द्र अष्टम भाव में बैठा है। दीवाली पर जुऑ खेलने वाले व्यक्ति पहली पारी में जीतेंगे उसके बाद हार का दौर शुरू हो सकता है। इसलिए जो मिल जाये उसे लेकर उठ जायें इसी में भलाई है।
नोट-यह राशिफलनाम राशियों के लिए लिखा गया है। इसका पाश्चात्य राशियों से कोई लेना-देना नहीं है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
30th oct is Diwali, this time its very Precious, here are reasons.
Please Wait while comments are loading...