चार दिवसीय छठ पूजा के बारे में जानिए खास बातें

By: पं. अनुज के शुक्ल
Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से प्रारम्भ होकर सप्तमी तक चलने वाली चार दिवसीय छठ पूजा मुख्य रूप से पूर्वी भारत के बिहार, झारखण्ड, पूर्वी उत्तरप्रदेश व नेपाल के तराई क्षेत्रों में बड़ी धूम-धाम से की जाती है। छठ पर्व षष्ठी का अपभ्रंश है।

जानिए छठ पूजा की महिमा को बारे में

सूर्य षष्ठी व्रत होने के कारण इसे छठ कहा जाता है। यह पर्व लगातार चार दिनों तक मनाया जाता है। षष्ठीतिथि ; छठद्ध एक विशेष खगोलीय अवसर है। उस समय सूर्य की पराबैंगनी किरणें पृथ्वी पर अधिकमात्रा में पड़ती है।जोमनुष्य के तन व मन को शुद्ध करने के लिए काफी उपयोगी सिद्ध होती है।

छठ पर्व मनाने की विधि-

पहला दिन-नहाय खाय

पहला कार्तिक शुक्ल चतुर्थी नहाय-खाय के रूप में मनाया जाता है।सबसे पहले स्नान-ध्यान करके शुद्ध शाकाहारी भोजन देशी घी व सेंधा नमक से बना हुआ अरवा चावल और कददू की सब्जी को प्रसाद के रूप मेंग्रहण किया जाता है।

दूसरा दिन-लोहंडा और खरना

दूसरे दिन-व्रत आरंभ किया जाता है।कार्तिक शुक्ल पंचमी को व्रत रखने वाले जातक उपवास रखने के बाद शाम को भोजन ग्रहण करते है। इसे खरना कहा जाता है।प्रसाद के रूप में गन्ने के रस में बने हुये चावल की खीर के साथदूध, चावल का पिटठा और घीचु पड़ी रोटी बनाई जाती है।इसमें नमक व चीनी का उपयोग नहीं किया जाता है।

तीसरेदिन-संध्या अर्घ्य

तीसरे दिन कार्तिक शुक्ल षष्ठी को दिन में छठ प्रसाद बनाया जाता है।प्रसाद के रूप में ठेकुआ और चावल के लडडू, जिसे लडुआ भी कहा जाता है। शाम को बॉस की टोकरी में अर्घ्य का सूप सजाया जाता है और व्रत के साथ परिवार के लोग अस्ताचलगामी सूर्य को जल में दूध मिश्रित अर्घ्य अर्पण करते है।

चौथे दिन-उषाअर्घ्य

चौथे दिन कार्तिक शुक्लसप्तमी के दिन सुबह के समय उगते हुये सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। शाम को सूर्य को अर्घ्य देने के पश्चात दूध का शरबत पीकर व्रत तोड़ते है। इस पूजा में पवित्रता का विशेष ध्यान रखा जाता है।इन चार दिनों में घर के अन्दर लहसुन-प्याज का प्रयोग वर्जित होता है।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Chhath is an ancient Hindu Vedic festival dedicated to the Hindu Sun God, Surya and Chhathi Maiya .
Please Wait while comments are loading...