चॉकलेट डे: बिना मिठास के इश्क की उम्र लंबी नहीं...

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। दोस्तों, इस समय वैलेंनटाइन वीक चल रहा है, रोज डे, प्रपोज डे के बाद आज नंबर है मीठे-मीठे चॉकलेटों का। यानी कि आज चॉकलेट डे है। अगर आपका कोई करीबी साथी या फिर आपका प्यार आपसे लंबे समय से नाराज चल रहा है तो आप चॉकलेट देकर आज अपने साथी को मना सकते हैं।

महिलाओं और लड़कियों की फेवरट चॉकलेट

चॉकलेट हर उम्र की पसंद होती है। खासकर महिलाओं और लड़कियों की फेवरट चॉकलेट से आप आसानी से उनको अपना बना सकते हैं। कभी आपने सोचा है कि प्यार के तीसरे दिन को 'चॉकलेट डे' के रूप में क्यों मनाते हैं?

चॉकलेट का मतलब मिठास से होता है

शायद नहीं। तो चलिए हम बताते हैं। हर दिन की कुछ खासियत होती है। चॉकलेट का मतलब मिठास से होता है, रिश्तों की मधुरता से होता है। जो किसी भी रिश्ते की दरकार होती है। हर रिश्ता प्रेम की मिठास खोजता है अब वो रिश्ता चाहे प्रेमी-प्रेमिका का हो, पति-पत्नी का हो या फिर दोस्ती का।

बिना मिठास के रिश्ते की उम्र लंबी नहीं होती

इसलिए लोगों ने चॉकलेट डे को इजाद किया ताकि इसी बहाने लोगों को अपनी जिम्मेदारी का एहसास हो और समझ में आये कि बिना मिठास के रिश्ते की उम्र लंबी नहीं होती। वैसे यहां हम आपको एक और खास बात बताते चले कि कनाडा के एक सर्वे के मुताबिक महिलाओं को फूल,शराब और शारीरिक संबंध से ज्यादा चॉकलेट पसंद है।

चॉकलेट खाने के बाद लड़कियों को खुशी का एहसास होता है

यह सर्वे 13 देशों में कराया गया था। जिसमें 69.1 फीसदी महिलाओं ने कहा कि उनकी पहली पसंद चॉकलेट है। ऐसा माना जाता है कि चॉकलेट खाने के बाद लड़कियों को खुशी का एहसास होता है। इसमें मौजूद मिठास उनके शरीर में खुशी वाले हार्मोन को बढ़ा देते हैं।

चॉकलेट किसी भी महिला की कमजोरी

अब तो आपके सामने स्थिति एकदम से स्पष्ट हो गयी है कि चॉकलेट किसी भी महिला की कमजोरी होती है। इसलिए दोस्तों देर किस बात की है, आप एक बढ़िया सी चॉकलेट लेकर उसके पास जाइये जिसे आप आईलवयू बोलना चाहते हैं, यकीन मानिये आपके जीवन में प्यार की ऐसा बरसात होगी जिसमें आप हमेशा भीगना चाहेंगे।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Friends, family and lovers can enjoy this day, the Valentine Week is to cherish love in your life. And ‘muh mitha karna’ is just a part of it. This whole day is dedicated to that philosophy.
Please Wait while comments are loading...