जानिए 'बाबा बर्फानी' की अमर-यात्रा के बारे में सबकुछ...

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। कश्मीर से सालाना होने वाली अमरनाथ यात्रा आज से शुरू हो रही है। बुधवार सुबह तीर्थयात्रियों का पहला जत्था रवाना हो गया। यात्रा जम्मू से शुरू होगी। हर साल कश्मीर से अमरनाथ यात्रा शुरू होती है। अनंतनाग और गंदेरबाल जिलों के पहलगाम और बालटाल आधार शिविर से आज 4,000 यात्रियों के पहले जत्थे को जम्मू कश्मीर के डिप्टी सीएम निर्मल सिंह ने हरी झंडी दिखाई।

अमरनाथ यात्रा पर आतंकी हमले का साया, देश में दंगे करवाने की है साजिश

आपको बता दें कि अमरनाथ गुफा दक्षिण कश्मीर के हिमालयवर्ती क्षेत्र में है। यह श्रीनगर से लगभग 141 किमी. की दूरी पर 3,888 मीटर (12,756 फुट) की उंचाई पर स्थित है। इस तीर्थ स्थल पर पहलगाम और बालटाल मार्गों से पहुंचा जा सकता है।

अमरनाथ धाम का इतिहास

अमरनाथ धाम का इतिहास

ऐसा माना जाता है कि मध्यकाल के बाद लोगों ने इस गुफा को भुला दिया था। 15वीं शताब्दी में एक गडरिये, बुट्टा मलिक ने इसका पता लगाया। कहा जाता है कि एक महात्मा ने बुट्टा मलिक को कोयले से भरा हुआ एक थैला दिया। घर पहुंचने पर जब उसने उस थैले को सोने से सिक्कों से भरा हुआ पाया, तो उसके आश्चर्य का ठिकाना न रहा।

पवित्र गुफा

पवित्र गुफा

खुशी के मारे वह महात्मा का धन्यवाद करना चाहता था, लेकिन वह महात्मा उसे कहीं नहीं मिला। इसकी बजाय उसने पवित्र गुफा देखी और उसमें उसे शिवलिंग के दर्शन हुए। उसने ग्रामवासियों को इसके बारे में जानकारी दी। तब से यह तीर्थ यात्रा का पवित्र स्थल बन गया।

एक और कथा

एक और कथा

ऐसी मान्यता है कि काफी समय पहले कश्मीर घाटी जलमग्न हो गई थी और कश्यप मुनि ने अनेक नदियों और नालों के जरिए इसका पानी निकाल दिया। इस प्रकार जब पानी उतर गया, तो भृगु मुनि ने भगवान अमरनाथ के सबसे पहले दर्शन किए। इसके बाद लोगों ने लिंगम के बारे में सुना तो यह आस्था वाले सभी लोगों के लिए यह भगवान भोले नाथ का स्थान बन गया और तब से हर वर्ष लाखों लोग तीर्थ यात्रा करते हैं।

अमरनाथ यात्रा

अमरनाथ यात्रा

सुरक्षा इस यात्रा के लिए काफी सुरक्षा व्यवस्था की जाती है क्योंकि यह यात्रा बहुत ज्यादा कठिन है और दुर्लभ रास्तों से होकर गुजरती है।

बड़ी संख्या में लगते हैं कर्मचारी

बड़ी संख्या में लगते हैं कर्मचारी

यात्रा के दौरान राज्य के बड़ी संख्या में कर्मचारियों को काम पर लगाया जाता है, ताकि इस धार्मिक यात्रा के लिए नागरिक और चिकित्सा सुविधाओं के पर्याप्त प्रबंध सुनिश्चित किए जा सकें।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Militants are planning to target 100 policemen and as many pilgrims participating in the Amarnath Yatra which will begin from Jammu on Wednesday amid the highest-ever multi-tier security setup, according to intelligence reports.
Please Wait while comments are loading...