इस बार नौ नहीं दस दिन की है नवरात्रि, 18 साल बाद महासंयोग

Subscribe to Oneindia Hindi

बैंगलोर। इस बार की नवरात्रि 9 के बजाए 10 दिन की रहेगी। इस प्रकार का संयोग 18 साल बाद बन रहा है। नवरात्रि 10 दिन की होने की वजह एकम का दो दिन होना है। 10 वें दिन मां दुर्गाओं की प्रतिमाओं का विसर्जन किया जाएगा।

अपनी अश्लील फोटो पर बोलीं सोफिया.. बाबा रामदेव से ज्यादा कपड़े पहनती हूं...

हर बार की तरह इस बार का भी ये नवरात्र काफी उम्मीदें और आशाएं लेकर आया है लेकिन इस बार का नवरात्र के एक खास बात है और वो यह कि यह हर जातक के लिए बेहद शुभ है। इसकी पीछे कारण ये है कि इस बार का नवरात्र पूरे दस दिन का है, ऐसा संयोग पूरे 18 साल बाद बन रहा है। इन दिनों में श्रद्धालु पूजा-अर्चना, साधना के साथ पुण्यलाभ ले सकते हैं।

कानपुर टेस्ट: आर अश्विन ने लिए टेस्ट में 200 विकेट, बनाया विश्व-रिकॉर्ड

नवरात्र 1 अक्टूबर से लेकर 10 अक्टूबर तक रहेगा, 11 वां दिन विजयदशमी यानी सिद्दिदात्री का होगा। नवरात्र के दिनों में भक्तगण उपवास रखते हैं मां दुर्गासप्तशती का पाठ करते हैं और मां को अलग-अलग तरह के भोग लगाते हैं।

अब रिलांयस जियो का एक्सपीरियंस सेंटर करेगा आपकी हर मदद, जानिए कैसे?

जिसके बारे में बातें आगे की तस्वीरों में करते हैं...

इस बार नौ नहीं दस दिन की है नवरात्रि

-प्रथम दिन : मां को घी का भोग लगाएं, रोगमुक्त होंगे।
-दूसरे दिन: शक्कर का भोग लगाएं, दीर्घायु होंगे।
-तीसरा दिन: दूध चढ़ाएं, सारे कष्ट दूर होंगे।

इस बार नौ नहीं दस दिन की है नवरात्रि

-चौथा दिन: मालपुए का भोग, पारिवारिक सुख मिलेगा
-पंचमी: केले और शहद का भोग लगाएं।
-षष्ठी तिथि: सफेद पेड़े का भोग लगाएं।

इस बार नौ नहीं दस दिन की है नवरात्रि

-सप्तमी गुड़ का भोग लगाएं, गरीबी भाग जायेगी।
-अष्टमी नारियल का भोग लगाएं, सुख-समृद्धि की प्राप्ति होगी।
नवमी अनाजों का भोग लगाएं, संतान की प्राप्ति।

जानिए विवाहित महिलाओं के लिए मंगल-सूत्र क्यों है जरूरी?

जानिए विवाहित महिलाओं के लिए मंगल-सूत्र क्यों है जरूरी?

आखिर क्यों रहते हैं पवनपुत्र हनुमान लाल-लाल?

आखिर क्यों रहते हैं पवनपुत्र हनुमान लाल-लाल?

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
At this time many good Mahasnyog Navratri 2016 10 days will be happiness and prosperity.
Please Wait while comments are loading...